डी.एस.पी. के आतंकियों के संबंधों की जांच करेगी NIA

2020-01-14T12:20:35.837

श्रीनगर: श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पर आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन के 2 आतंकवादियों के साथ गिरफ्तार किए गए पुलिस उपाधीक्षक (डी.एस.पी.) देविंद्र सिंह की गिरफ्तारी का मामला राष्ट्रीय जांच एजेंसी(एन.आई.ए.) को सौंप दिया गया है। अब डी.एस.पी. के आतंकियों के संबंधों की एन.आई.ए. जांच करेगी। उक्त घटना के संबंध में 48 घंटों के दौरान सुरक्षा एजेंसियों ने कश्मीर के कई स्थानों पर छापेमारी की। छापेमारी के दौरान कई महत्वपूर्ण दस्तावेज व 12 लाख रुपए बरामद किए गए। पुलिस ने इस मामले की जांच को लेकर विस्तार से जानकारी देने से इंकार करते हुए कहा कि केस की जांच जारी है।

PunjabKesari

आरोपी डीएसपी निलम्बित, वापस लिया जा सकता है मैडल
इस संबंध में जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक (आई.जी.) विजय कुमार ने कहा कि आतंकियों के साथ पकड़े गए डी.एस.पी. देविंद्र सिंह ने घृणित अपराध किया है। उसके खिलाफ आतंकियों की तरह ही कार्रवाई की जाएगी। उक्त डी.एस.पी. को निलम्बित कर दिया गया है। आरोपी देविंद्र सिंह राष्ट्रपति पुलिस मैडल से सम्मानित हो चुका है, अगर वह दोषी पाया जाता है तो उससे यह मैडल छीना जा सकता है। उन्होंने कहा कि उक्त मामले को लेकर पुलिस विभाग के कई अधिकारियों की स्क्रीनिंग होगी, क्योंकि गृह मंत्रालय भी चाहता है कि ऐसी काली भेड़ों की पहचान की जाए जो आतंकियों के साथ मिल कर काम कर रहे हैं। इसके लिए केेंद्रीय खुफिया एजैंसी इंटैलीजैंस ब्यूरो और रॉ भी जांच में सहयोग करेगा।

PunjabKesari

बता दे कि पुलिस के बहुचर्चित अधिकारी देविंद्र, जिसने श्रीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर हाईजैक विरोधी टीम का नेतृत्व किया था, को दिल्ली जाने वाले रास्ते में गिरफ्तार किया गया था। उस समय वह हिजबुल के 2 शीर्ष कमांडरों नावीद बाबा और आसिफ के साथ था। उनके पास हथियार एवं गोला-बारूद भी था। नावीद पहले पुलिस कांस्टेबल था। इस बात का पता लगाने के लिए कि गणतंत्र दिवस से कुछ दिन पहले एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी 2 आतंकवादियों के साथ दिल्ली क्यों जा रहा था, इस मामले को आतंकवादी मामलों की जांच करने वाली एजेंसी एन.आई.ए. को सौंपा जाएगा।

2 आतंकवादियों सहित डीएसपी गिरफ्तार, गोला-बारूद बरामद
दिलचस्प तथ्य यह है कि हाल ही में कश्मीर का दौरा करने वाले अमरीका के भारत में राजदूत सहित विभिन्न देशों के राजदूतों के प्रतिनिधिमंडल की अगवानी करने वाले चुनिंदा अधिकारियों में भी वह शामिल था। गौर रहे कि आतंकवादी गतिविधियों को लेकर खुफिया जानकारी के आधार पर शनिवार शाम को अनंतनाग के वानपोह में सुरक्षा बलों ने एक वाहन को रोका। सुरक्षा बलों ने वाहन से 2 आतंकवादियों सहित डी.एस.पी. देविंद्र सिंह को गिरफ्तार किया था, जिनके पास से 1 ए.के.-47 राइफल, एक पिस्तौल और अन्य हथियार एवं गोला-बारूद बरामद किया गया था। गिरफ्तार दोनों आतंकवादी हिजबुल के शीर्ष कमांडर हैं, जिनकी कई आतंकवादी घटनाओं के सिलसिले में तलाश थी।

PunjabKesari

आतंकियों को दिल्ली पहुंचाने की हुई थी डील, अफजल गुरु से थी नजदीकी
आरोपी डी.एस.पी. देविंद्र सिंह के मामले में नया खुलासा हुआ है कि उक्त डी.एस.पी. ने आतंकियों को पहले चंडीगढ़ और फिर दिल्ली पहुंचाने के लिए 12 लाख रुपए में सौदा किया था। इतना ही नहीं, अपने मंसूबों को अंजाम तक पहुंचाने के लिए उसने बकायदा चार दिन की छुट्टी भी ले ली थी। उक्त डी.एस.पी. का संसद हमले के आतंकी अफजल गुरु से कनैक्शन भी सामने आया है। आतंकवादी अफजल गुरु ने कथित तौर पर उक्त आरोपी देविंद्र का नाम लिया था। पुलिस का कहना है कि डी.एस.पी. देविंद्र के साथ अफजल गुरु के कनैक्शन की जांच चल रही है।

डी.एस.पी. के पास था आतंकियों के लिए हथियारों की डील करवाने का जिम्मा
सूत्रों की मानें तो कुख्यात आतंकियों के लिए हथियारों की डील करवाने का जिम्मा भी डी.एस.पी. के पास ही था। अभी इस मामले में सुरक्षा एजैंसियां पूछताछ कर रही हैं। इस दौरान बड़े मामले खुल सकते हैं। वहीं पूछताछ के आधार पर सुरक्षा बलों ने श्रीनगर के खमनू और बडग़ाम सहित कश्मीर में आधा दर्जन से अधिक ठिकानों पर छापेमारी की है। कुख्यात आतंकी नावीद की निशानदेही पर कुछ हथियार भी बरामद किए गए हैं। हालांकि जांच एजैंसियां अभी इस संबंध में कुछ भी बताने से बच रही हैं।


Author

rajesh kumar

Related News