बाइडन ने यूक्रेन के राष्ट्रपति से की बात: यूक्रेन की संप्रभुता के लिए प्रतिबद्धता की दोहराई

punjabkesari.in Friday, Jan 28, 2022 - 09:44 AM (IST)

वाशिंगटन, 28 जनवरी (भाषा) अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने यूक्रेन के अपने समकक्ष वोलोदिमीर जेलेंस्की से बात की और उनके देश की संप्रभुता तथा क्षेत्रीय अखंडता के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दोहराई।

अमेरिका ने रूस को यूक्रेन पर हमला करने से रोकने के लिए उसके खिलाफ वैश्विक दबाव बनाया है।

व्हाइट हाउस ने एक बयान में कहा, ‘‘ राष्ट्रपति जो बाइडन ने आज यूक्रेन के अपने समकक्ष वोलोदिमीर जेलेंस्की से बात की। राष्ट्रपति बाइडन ने इस बात की पुष्टि की कि यदि यूक्रेन पर रूस आक्रमण करता है तो अपने सहयोगियों तथा भागीदारों के साथ अमेरिका इसका निर्णायक रूप से जवाब देने को तैयार है।’’ व्हाइट हाउस ने बताया कि दोनों नेताओं ने यूरोपीय सुरक्षा पर समन्वित राजनयिक प्रयासों के बारे में चर्चा की और ‘‘यूक्रेन के बिना यूक्रेन के बारे में कुछ भी नहीं’’ के सिद्धांत को रेखांकित किया।

बयान के अनुसार, फोन पर बातचीत के दौरान बाइडन ने ‘नॉरमैंडी’ प्रारूप में संघर्ष समाधान के प्रयासों के लिए अमेरिका का समर्थन दिया और उम्मीद जतायी कि जुलाई 2020 के युद्धविराम की शर्तों को लेकर पक्षों द्वारा 26 जनवरी को व्यक्त की गई प्रतिबद्धता से तनाव को कम करने और मिन्स्क समझौतों के क्रियान्वयन को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी।

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने पत्रकारों से कहा कि अमेरिका ने सीमा पर तैयारी देखी है और किसी भी समय आक्रमण हो सकता है। उन्होंने कहा, ‘‘ हमारा आकलन इसको लेकर बदला नहीं है।’’ इससे पहले अमेरिका और नाटो ने मामले पर अलग-अलग रूस को अपनी प्रतिक्रिया भेजी थीं।

विदेश मंत्रालय की एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि उनका मानना है कि ये प्रतिक्रियाएं यूरो-अटलांटिक क्षेत्र में सुरक्षा सुधार के लिए एक वास्तविक अवसर प्रदान करती हैं बशर्ते रूस संघर्ष या हिंसा के बजाय कूटनीति का रास्ता चुने।

राजनीतिक मामलों की सहायक विदेश मंत्री विक्टोरिया नुलांड ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘ हम और हमारे नाटो सहयोगी तथा साझेदार लंबे समय से उन्हीं मुद्दों को लेकर चिंतित हैं, जिन्हें रूस ने उठाया था। हम लंबे समय से इन पर गंभीरता से वार्ता कर रहे हैं, जिसमें मध्यवर्ती तथा कम दूरी के परमाणु हथियार शामिल हैं, जो हमारे सहयोगियों के क्षेत्र को निशाना बना सकते हैं। अधिक पारदर्शिता और जोखिम कम करने के उपायों और सैन्य अभ्यास के लिए सड़क के अद्यतन एवं पारस्परिक नियमों की आवश्यकता है।’’

यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News