पाक मंत्री का श्रीलंकाई नागरिक की लिंचिंग पर शर्मनाक बयान-" जवान खून भड़क जाता है, इसे ज्यादा सीरीयस न लें !"

punjabkesari.in Tuesday, Dec 07, 2021 - 11:33 AM (IST)

पेशावरः पाकिस्तान में ईशनिंदा के आरोप में भीड़ द्वारा श्रीलंकाई नागरिक को पीट-पीटकर मारने की घटना को लेकर पूरे विश्व में पाकिस्तान की किरकिरी  हो रही है। पाकिस्तान मंत्रिमंडल ने  बेशक देश में भीड़ द्वारा हत्या पर अंकुश लगाने के लिए संकल्प का दिखावा किया है लेकिन इमरान सरकार के मंत्री मासूम की हत्या को धर्म के नाम पर जायज ठहरा रहे हैं। इमरान के मंत्री ने श्रीलंकाई नागरिक की लिंचिंग को जायज ठहराते हुए इस पर शर्मनाक बयान दिया है।

PunjabKesari

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के सियालकोट में एक कारखाने के श्रीलंकाई कर्मचारी की लिंचिंग पर पाकिस्तान के रक्षा मंत्री परवेज खट्टक ने कथित तौर पर कहा कि इस्लाम धर्म का अपमान देश का युवा नहीं सह पाया और उसने घटना को अंजाम दिया। यह कुछ और नहीं बल्कि आज के युवा का ताजा खून है जो उबल जाता है जब उसके धर्म का अपमान किया जाता है। यह कोई बड़ी घटना नहीं है। न किसी जमात से जुड़ी हुई घटना है। ये बच्चे हैं गुस्से में हत्या हो गई इसे ज्यादा सीरियस न लिया जाए।

 

पाकिस्तान के रक्षा मंत्री परवेज खट्टक ने भी सोमवार को इस घटना पर एक बयान जारी करने के लिए ट्विटर का सहारा लिया। उन्होंने लिखा, "मैं मारे गए श्रीलंकाई के क्रूर उत्पीड़न की कड़ी निंदा करता हूं। घटना पाकिस्तान का प्रतिबिंब नहीं है। पाकिस्तान अपने सभी रूपों और अभिव्यक्तियों में चरमपंथ की निंदा करता है। जिम्मेदार लोगों को न्याय के लिए लाया जाएगा।"

PunjabKesari

इस घटना से पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ा है। कट्टरपंथी इस्लामी पार्टी तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के समर्थकों सहित 800 से अधिक लोगों की भीड़ ने पिछले शुक्रवार को लाहौर से लगभग 100 किलोमीटर दूर स्थित सियालकोट जिले में एक कपड़ा कारखाने पर हमला किया था और उसके महाप्रबंधक दियावदनगे की हत्या करके उसके शव को आग लगा दी थी। 

 

प्रधानमंत्री इमरान खान की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल स्तर की एक बैठक के दौरान श्रीलंकाई नागरिक की हत्या के क्रूर कृत्य को लेकर गंभीर चिंता जताई । मंत्रिमंडल बैठक के बाद जारी आधिकारिक बयान में कहा गया, बैठक के प्रतिभागियों का विचार था कि लोगों और भीड़ को कानून अपने हाथ में लेने की अनुमति नहीं दी जा सकती और ऐसी घटनाओं को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।

PunjabKesari

बैठक में सूचना मंत्री फवाद अहमद, गृह मंत्री शेख रशीद अहमद, सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोईद यूसुफ, पंजाब प्रांत के मुख्यमंत्री उस्मान बजदार के अलावा वरिष्ठ सैन्य और प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tanuja

Related News

Recommended News