उइगर उत्पीड़न में जिनपिंग का भी हाथ

punjabkesari.in Thursday, Dec 02, 2021 - 05:35 PM (IST)

इंटरनेशनल डेस्क: चीन के उइगर मुसलमानों के उत्पीड़न से जुड़े लीक दस्तावेजों से यह पता चलता है कि इस उत्पीड़न के पीछे चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और शीर्ष नेताओं का हाथ है। हालांकि चीन लगातार ऐसे आरोपों से इन्कार करता आ रहा है।

लीक दस्तावेजों पर आधारित रिपोर्ट में इन नेताओं के ऐसे कई भाषण शामिल हैं, जिनमें उइगर मुसलमानों को बड़ी संख्या में कैद में रखने और जबरन मजदूरी करवाने की बात है। ब्रिटेन स्थित उइगर ट्रिब्यूनल रखी गई इस रिपोर्ट को शिनजियांग पेपर्स का नाम दिया गया है। चीन के शिन्जियांग प्रांत में ही सबसे ज्यादा उइगर मुसलमान हैं। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और प्रधानमंत्री ली केचियांग समेत सत्ताधारी कम्युनिस्टों के ऐसे बयान शिनजियांग पेपर्स में हैं, जिनमें उइगर मुसलमानों को बंदी बनाना, उनकी सामूहिक नसबंदी करने, दूसरे समुदायों में उनकी जबरन शादियां कराना तथा फैक्टरियों में जबरन काम करवाना शामिल है। इस रिपोर्ट को तैयार करने वाले डॉक्टर जेंज के अनुसार विश्लेषण यह बताता है कि बड़ी हस्तियों की भूमिका को जितना समझा गया, उससे कहीं ज्यादा है।

उइगरों पर होने वाले जुल्म
चीन में उइगरों को निशाना बनाते हुए कई तरह के जुल्म इस समुदाय पर किए गए। शिनजियांग प्रांत में उन्हें कपास के खेतों में जबरन मजदूर बना दिया गया। उनकी आबादी को कम करने के लिए बड़े पैमाने पर उइगर महिलाओं की नसबंदी कर दी गई। बच्चों को परिवारों से अलग कर दिया गया।

चीन का पक्ष
चीन यह कहकर अपनी हरकतों को जायज ठहराता है कि यह आतंकवाद को रोकने के लिए जरूरी है। वह कहता है कि वह उइगरों कि पुनशिक्षा के लिए कैंप लगा रहा है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

Hitesh

Related News

Recommended News