चीनी कंपनियां विदेशी कामगारों का कर रहीं शोषण, नहीं दे रहीं वेतन

punjabkesari.in Sunday, Dec 05, 2021 - 06:07 PM (IST)

बीजिंगः चीनी कंपनियां विदेशों में श्रमिकों का शोषण कर रही हैं। लाओस सहित क्षेत्रों से  कई रिपोर्टें आ रही हैं जहां छह साल पहले निर्माण परियोजनाओं के लिए काम पर रखे गए श्रमिक अभी भी अपने भुगतान की प्रतीक्षा कर रहे हैं। द हांगकांग पोस्ट ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि लाओस में श्रमिकों ने दावा किया है कि उन्हें 2015में किए गए काम के लिए अभी तक कोई भुगतान नहीं मिला है। इन श्रमिकों को एक चीनी कंपनी द्वारा चीन समर्थित बांध के निर्माण से विस्थापित ग्रामीणों के लिए घर बनाने के लिए काम पर रखा गया था। चीनी कंपनियों द्वारा लाओस के श्रमिकों का शोषण करने का यह अकेला मामला नहीं है।

 

 रिपोर्ट के अनुसार लाओस में चीन की बुलेट ट्रेन परियोजना को जनता के लिए खोलने से कुछ हफ्ते पहले  इस हाई-स्पीड रेलवे का निर्माण करने वाले सौ से अधिक श्रमिकों का कहना है कि उन्हें दो महीने से भुगतान नहीं किया गया है।रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन समर्थित परियोजनाओं में चीनी कंपनियों और उनके किराए के स्थानीय श्रमिकों के बीच विवाद एक निरंतर विषय बन गया है।

 

उधर, कंपनियों का दावा है कि कई कर्मचारी काम को लेकर गंभीर नहीं हैं और अक्सर सौंपे गए कार्यों को पूरा नहीं करते हैं । और जब तक सभी काम पूरा नहीं हो जाता तब तक उन्हें भुगतान नहीं किया जा सकता है। एक चीनी उप-ठेकेदार के लिए काम करने वाले लाओ पर्यवेक्षक ने कहा ‘वे कड़ी मेहनत नहीं करते हैं। कुछ काम पर सो जाते हैं और कुछ चोरी करते हैं।  नियोक्ता अपने वेतन में कटौती करते हैं और कभी-कभी पुलिस को बुलाते हैं।

 

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘दूसरी ओर, श्रमिकों का दावा है कि उन्हें प्रत्येक महीने के अंत में वेतन का वादा किया गया था और कई के पास भोजन तक खरीदने के लिए पैसे नहीं थे। इस बीच, एक श्रम कानून विशेषज्ञ ने कहा कि श्रमिकों को भुगतान के लिए अपनी लड़ाई जारी रखनी होगी और कानूनी रूप से इन चीनी कंपनियों पर अदालत में मुकदमा चलाने का विकल्प है। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tanuja

Related News

Recommended News