चीन के नापाक इरादेः अन्य देशों के सूचना संस्थान और मीडिया को प्रभावित करने की कोशिश कर रहा ड्रैगन

11/25/2021 12:48:01 PM

बीजिंगः चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने हमेशा अपने नापाक उद्देश्यों को हासिल करने के लिए तरह-तरह के औजारों का इस्तेमाल करते हुए दूसरे देशों के सूचना क्षेत्र और मीडिया को प्रभावित करने की कोशिश की है। दुर्भाग्य से लंबे समय तक  कोई ठोस सबूत नहीं था जो यह साबित कर सके कि चीन आधारित ताकतें दुनिया भर में दुष्प्रचार अभियानों में शामिल थीं। चीन की ऐसी गतिविधयां 2016 के अमेरिकी चुनावों से पहले मास्को द्वारा अपनाए गए आक्रामक दुष्प्रचार अभियान की याद दिलाती है।

 


पिछले कई वर्षों से चीन वही करता रहा है। शुक्र है कि 2019 के बाद चीजें थोड़ी बदली हैं। कई जांच और बड़े पैमाने पर अप्रामाणिक खातों को बाद  इस बात के स्पष्ट प्रमाण हैं कि चीन समर्थक सेनाएं सक्रिय रूप से वैश्विक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर व्यापक रूप से जोड़ तोड़ गतिविधियों को अंजाम दे रही हैं।  पिछले छह महीनों के भीतर  इस पर कई जांच प्रकाशित हुई हैं जो  इशारा करती हैं कि चीन इस मामले में रूस से भी आगे है। इसके लिए चीन वैश्विक खोज परिणामों और दुनिया भर में मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं  का इस्तेमाल कर रहा है। जिस पैमाने पर ये चीनी  एजैंट काम कर रहे हैं वह अपने आप में उल्लेखनीय है।

 

ऑक्सफोर्ड इंटरनेट इंस्टीट्यूट द्वारा मई में एक अध्ययन में कम से कम 26,000 ट्विटर खातों का दस्तावेजीकरण किया गया था, जो चीनी राजनयिकों या राज्य मीडिया द्वारा किए गए पोस्ट को बढ़ाते थे। सामग्री हेरफेर से संबंधित नियमों का उल्लंघन करने के लिए मंच द्वारा निलंबित किए जाने से पहले उन्होंने कम से कम 2,00,000 बार ऐसा किया था।  ये खाते कई भाषाओं में थे। यूके में तत्कालीन राजदूत लियू श्याओमिंग के ट्वीट के री-ट्वीट का एक बड़ा हिस्सा फर्जी खातों से आया था जिन्हें बाद में ट्विटर द्वारा निलंबित कर दिया गया था।

 

YouTube पर Google की त्रैमासिक रिपोर्ट में कहा गया है कि उसके वर्ष जनवरी और सितंबर के बीच चीन से जुड़े समन्वित प्रभाव संचालन में संलग्न होने के लिए कुल 10,570 चैनल हटा दिए गए थे। हर महीने 682 से 2,946 चैनलों को हटा दिया गया। यह टेकडाउन का अब तक का सबसे बड़ा सेट है। तुलना के लिए इस अवधि के दौरान रूस से जुड़े केवल 192 चैनलों को हटा दिया गया था। भले ही फेसबुक और ट्विटर पर चीनी अधिकारी और राज्य मीडिया की उपस्थिति पर अधिक ध्यान दिया जाए लेकिन YouTube चीनी प्रचारकों के लिए पसंदीदा मंच प्रतीत होता है । ProPublica द्वारा की गई एक अन्य जांच में  उन्हें सामान्य उइगरों के सैकड़ों वीडियो मिले, जिसमें दावा किया गया था कि उन्होंने "झिंजियांग में गंभीर अधिकारों के उल्लंघन के बारे में पूर्व विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ द्वारा दिए गए बयानों को देखा था, लेकिन यह सब बकवास है"।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tanuja

Related News

Recommended News