जयराम सरकार ने ध्वस्त किए पेपर लीक मामलों के सारे रिकार्ड: शोभित

punjabkesari.in Tuesday, May 10, 2022 - 03:49 PM (IST)

ऊना (विशाल स्याल): प्रदेश की भाजपा सरकार ने अब तक के पेपर लीक मामलों के सारे रिकार्ड ध्वस्त कर डाले हैं। सवा 4 सालों के कार्यकाल में एक भी भर्ती प्रक्रिया यह सरकार ऐसी नहीं पूरी करवा सकी है जिसमें कोई विवाद या पेपर लीक न हुआ हो। यह बात जिला मुख्यालय ऊना पर पत्रकारवार्ता करते हुए युवा कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता शोभित गौतम ने कही। निखिल शर्मा अधिवक्ता, गौरव कुमार, अभिषेक, नीरज, काका, पंकज, मोहित आदि की उपस्थिति में पत्रकारवार्ता करते हुए शोभित गौतम ने कहा कि उन परिवारों का क्या कसूर है जिन्होंने अपने बच्चों के भर्ती प्रक्रिया में पास होने की खुशी में समारोह कर दिए और लड्डू बांट दिए?

क्या यह संभव है कि कोई पेपर बिना सरकार या बड़े विभागीय अधिकारी की मिलीभगत के लीक हुआ हो? शोभित ने कहा कि प्रदेश में विजिलेंस और सी.आई.डी. कहां हैं? गोपनीय विभागों का क्या रोल रहा? पूरी पुलिस भर्ती प्रक्रिया होने के बाद ही क्यों पता चला कि पेपर लीक हो गया? क्यों पेपर लीक मामले के तुरंत बाद खालीस्तान का मुद्दा सामने आया? क्या इनमें कोई षडयंत्र तो नहीं? पेपर लीक मामले से ध्यान हटाने के लिए खालीस्तान के मुद्दे को शुरू तो नहीं किया गया है? शोभित ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार ने प्रदेश के बेरोजगार युवाओं से धोखा किया है।

उन्होंने कहा कि कोरोना काल में भाजपा की केंद्र सरकार ने देश की जनता के सामने मौतों के गलत आंकड़े पेश किए हैं। शोभित ने दावा किया कि डबलयू.एच.ओ. की रिपोर्ट में यह आंकड़ा काफी बड़ा आया है। केंद्र ने केवल सवा 4 लाख लोगों की कोरोना से मौत होने का दावा किया था जबकि असल में 48 लाख लोगों की देश में कोरोना से मौत हो गई थी। केंद्र की मोदी सरकार ने आंकड़े जनता से छिपाए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना से जान गंवाने वालों को 4-4 लाख रुपए का मुआवजा दिया जाना चाहिए।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Surinder Kumar

Related News

Recommended News