बड़ा दिलदार निकला Indigo वाला ये स्टूडेंट, जिस कॉलेज से की पढ़ाई, उसी को दान में दिए 100 करोड़ रुपये

punjabkesari.in Tuesday, Apr 12, 2022 - 12:35 PM (IST)

नेशनल डेस्क: देशभर के विभिन्न भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (आईआईटी) से पढ़कर कार्पोरेट जगत में अराबों रुपए का कारोबार करने या नौकरी करने वाले छात्र उस आधार को नहीं भूले हैं, जहां से उन्होंने कामयाबी की ऊंची उड़ान भरी। देश की विभिन्न आईआईटी के पूर्व छात्र आज भी अपनी कमाई से गुरु दक्षिणा के तौर पर करोड़ों रुपए अपने संस्थनों को सशक्त करने के लिए करोड़ों रुपए दान कर रहे हैं। हाल ही में आईआईटी कानपुर के पूर्व छात्र और इंडिगो एयरलाइंस के सह-संस्थापक राकेश गंगवाल ने कोविड महामारी में चल रही मंदी के बावजूद अपने संस्थान को 100 करोड़ रुपए दान किए। यह अपने संस्थान को स्वेच्छा से दान करने का पहला उदाहरण नहीं है, यह परंपरा पूरे भारत में शुरू हो चुकी है।

आईआईटी मद्रास ने जुटाए 35 करोड़ रुपए
आईआईटी मद्रास के डीन एलुमनाई और कॉरपोरेट रिलेशंस महेश पंचगनुला के मुताबिक पिछले पांच सालों में इस प्रमुख संस्थान ने अकेले शिक्षा के एंडोमेंट कैटेगरी के तहत 135 करोड़ रुपये से ज्यादा जुटाए हैं। महामारी के बावजूद पिछले पांच वर्षों में साल-दर-साल औसतन लगभग 20 प्रतिशत की वृद्धि के साथ आईआईटी मद्रास में प्राप्त होने वाली दान राशि में वृद्धि हुई है। आईआईटी मद्रास में वार्षिक दान और धन प्रबंधन  2016-17 में राशि 55 करोड़ रुपये से बढ़कर 2020-21 में 101.49 करोड़ रुपये हो गई है, जो अपनी वार्षिक रिपोर्ट के आधार पर सबसे अधिक है। इस बीच आईआईटी बॉम्बे ने 2017-18 में 17.12 करोड़ रुपये से बढ़कर 2020-21 में 77 करोड़ रुपए जुटाए हैं। जबकि कानपुर ने 2016-17 में 7.62 करोड़ रुपये से 2020-21 में 84.39 करोड़ रुपये तक की छलांग लगाई है।आईआईटी कानपुर के लिए गंगवाल ने स्कूल ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी के लिए 100 करोड़ रुपये का दान दिया, जिसे संस्थान अपने परिसर में विकसित कर रहा है।

बॉम्बे को भी मिले तकनीक के लिए 95 करोड़
2014 में आईआईटी बॉम्बे को अपने इतिहास में सबसे बड़ा दान मिला था। टाटा समूह से उच्च तकनीक उत्पादों और समाधानों के विकास के लिए एक केंद्र स्थापित करने के लिए 95 करोड़ रुपए दान दिए थे। आईआईटी मद्रास के डीन पंचग्नुला ने कहा कि प्राप्त कुल प्रबंधन फंडिंग का एक महत्वपूर्ण हिस्सा चेयर प्रोफेसरशिप के लिए है, जो बड़े पैमाने पर आईआईटी मद्रास के पूर्व छात्रों के उदार समर्थन के माध्यम से है। चेयर प्रोफेसरशिप के माध्यम से आईआईटी मद्रास अकादमिक या अनुसंधान के विशिष्ट क्षेत्रों में वैश्विक विशेषज्ञों को चेयर प्रोफेसर के रूप में लाने में सक्षम है। यह कक्षा में जबरदस्त मूल्य जोड़ता है, छात्रों के सीखने को समृद्ध करता है। आईआईटी कानपुर के अलावा, आईआईटी बॉम्बे वार्षिक और दीर्घकालिक योगदान दोनों में प्रमुख लाभार्थियों में से एक रहा है। उदाहरण के लिए आईआईटी बॉम्बे हेरिटेज फाउंडेशन को एक यूएस-आधारित पूर्व छात्र सहायता समूह ने पिछले 25 वर्षों में लगभग 380 करोड़ रुपये ($50 मिलियन) का दान दिया है।

गांधीनगर संस्थान के दान में होती वृद्धि
यहां तक कि गांधीनगर जैसे युवा आईआईटी ने भी अपने पूर्व छात्रों के नेटवर्क और भारत के बाहर स्थित शुभचिंतकों के योगदान में अच्छी वृद्धि देखी है। एक युवा संस्थान के रूप में जिनके पूर्व छात्र अभी भी अपने शुरुआती या मध्य-कैरियर चरण में हैं, आईआईटी गांधीनगर ने अपने धन उगाहने के प्रयासों में उल्लेखनीय प्रगति की है। यह दुनिया भर में फैले संस्थान के शुभचिंतकों की एक बड़ी संख्या से प्राप्त असाधारण समर्थन के माध्यम से संभव हुआ है। पिछले तीन वर्षों में संस्थान की औसत वार्षिक प्रबंधन 13 करोड़ रुपये से अधिक हो गया है। आईआईटी के अलावा शीर्ष बिजनेस स्कूल भी प्रबंधन के माध्यम से धन उगाहने में एक स्वस्थ वृद्धि देख रहे हैं। इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस (आईएसबी) के वरिष्ठ निदेशक-एडवांसमेंट अजीत मोटवानी ने कहा कि बी-स्कूल को 57 करोड़ रुपये का सबसे बड़ा दान मिला है, जिसमें पांच दाताओं ने पिछले दो दशकों में 50 करोड़ रुपये या उससे अधिक का योगदान दिया है। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Related News

Recommended News