JNU: बल प्रयोग पर माफी मांगे पुलिस

11/21/2019 10:23:33 AM

नई दिल्ली: जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के दृष्टि बाधित छात्रों ने बुधवार को दिल्ली पुलिस के पुराने मुख्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। छात्रों का आरोप है कि पुलिस ने विश्वविद्यालय की फीस वृद्धि को लेकर हुए विरोध-प्रदर्शन के दौरान छात्रों पर बल प्रयोग किया था। दृष्टिबाधित छात्रा रिम्मी शर्मा ने कहा कि हम दिल्ली पुलिस से दृष्टि बाधित छात्रों पर लाठियां चलाने के मामले में लिखित माफीनामे की मांग करते हैं। एमफिल छात्र मनीष चौहान ने कहा कि अगर शुल्क वृद्धि लागू की गई तो हमें सस्ती और सुलभ शिक्षा से वंचित किया जाएगा। कुछ दिन पहले वकीलों द्वारा पीटे जाने के बाद दिल्ली पुलिस खुद प्रदर्शन कर रही थी। फिर वह कैसे भूल सकती है कि छात्रों को भी विरोध-प्रदर्शन का अधिकार है।

Related image

इससे पहले जेएनयू के दृष्टिबाधित छात्रों के एक फोरम के शेख मोहम्मद कैश ने बुधवार को कहा कि वह जब बस से साथियों के साथ बीते सोमवार को जेएनयू छात्रों के संसद मार्च में पुलिस द्वारा की गई लाठीचार्ज के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए पुलिस मुख्यालय की ओर जा रहे थे जिसकी उन्हें अनुमति नहीं दी गई। उन्होंने कहा कि उनकी बस को रोक दिया गया और उसे वसंत कुंज थाने ले जाया गया। 

इसके बाद में उन्होंने कहा कि उनकी बस को दिल्ली पुलिस के पुराने मुख्यालय ले जाया गया। फोरम ने सोमवार को हॉस्टल शुल्क वृद्धि के विरोध में प्रदर्शन के दौरान हुए कथित पुलिस लाठीचार्ज की निन्दा की थी और कहा था कि पुलिस को माफी मांगनी चाहिए। हालांकि पुलिस ने लाठीचार्ज के आरोप को खारिज किया था। पिछले तीन सप्ताह से विश्वविद्यालय के छात्र शुल्क वृद्धि का विरोध कर रहे हैं। 


Author

Riya bawa

Related News