ऑडिबल पर विभिन्न जॉनर्स में हिंदी ऑडियोबुक्स को सुनकर मनाएं हिंदी दिवस का जश्न

2021-09-14T20:40:49.757

नई दिल्ली/डिजीटल टीम। भारत की संविधान सभा ने 14 सितम्बर 1949 को हिंदी को भी केंद्र सरकार की आधिकारिक भाषा बनाने का फैसला लिया। इस फैसले की अहमियत को साबित करने और हर क्षेत्र में हिंदी का प्रसार करने के लिए हर साल 14 सितम्बर को हिंदी दिवस मनाया जाता है। देश भर के स्कूलों, कॉलेजों या सरकारी कार्यालयों में इस दिन भारतीय लिखित और बोली जाने वाली दोनों भाषाओं के रूप में भारत की समृद्ध हिंदी संस्कृति का जश्न मनाते हैं। आपको अच्छे से हिंदी पढऩा आता हो या नहीं, आप भी ऑडिबल पर हमारे समय के कुछ सबसे बेहतरीन हिंदी लेखकों की इन कालातीत हिंदी रचनाओं को सुनकर इस उत्सव में भाग ले सकते हैं।

 


Audible.in की ऑडियोबुक्स की सूची के साथ आप हिंदी साहित्य के विभिन्न जॉनर्स को एक्स्प्लोर कर सकते हैं और एक बेहतरीन अनुभव प्राप्त कर सकते हैं। 
 आनंद नीलकंठन की अनेक रामायण, अनेक संधारभा (मैनी रामायाणा, मैनी लेसंस)
भारत में हम सभी पौराणिक कथाओं को सुनते और देखते हुए बढ़े हुए हैं और इन कहानियों की संस्कृति बेहद समृद्ध रही है। और यही चीज देश में स्टोरीटेलिंग की परंपरा का पर्याय है। 29 एपिसोड में बनी इस ऑडियोबुक में आनंद नीलकंठन ने इस महागाथा को अलग-अलग वर्जन में प्रस्तुत करने की कोशिश की है। वे हर उम्र के लोगों को ऐसी सीख देना चाहते थे जो हमेशा उनके साथ बनी रहे। इस कहानी को कालक्रम के अनुसार सुनाया गया है। इसके हरेक एपिसोड में ऋषि वाल्मीकि, भगवान राम, ऋषि विश्वमित्र, सीता, भरत की महानता के किस्से अलग-अलग सुनाए गए हैं। इसलिए संपूर्ण एशिया में विद्यमान इस कहानी के अलग-अलग संस्करण को बड़े ही मजेदार अंदाज में बताया गया है। 


अनु सिंह चौधरी की मैड मॉमास, 
मैड मॉमास अनु सिंह चौधरी लिखित और ऋचा अनिरुद्ध द्वारा सुनाई गई 8-भाग की ऑडिबल ओरिजनल सीरीज है। इसमें मातृत्व के विभिन्न चरणों में चार महिलाओं की कड़वी वास्तविकताओं को दर्शाया गया है, जो शादी, करियर, बच्चों, परिवार, जीवन और कोरोना संकट के दौरान अलग-अलग भूमिकाओं का निर्वहन करती हैं। इस सीरीज का मूल विषय यह भी स्थापित करता है कि कैसे ‘मातृत्व’ स्वाभाविक रूप से एक ऐसी कम्?युनिटी बन जाता है जहां महिलाएं अपनी अकेली लड़ाई लड़ते हुए अनजाने में एक-दूसरे के लिए एक साथ आती हैं। यह काल्पनिक ऑडियो ड्रामा सीरीज शहरी महिलाओं के जीवन के कई अनछुए पहलुओं को उन रहस्यों के माध्यम से उजागर करती है जिन्हें वे खुले तौर पर साझा करने से डरती हैं। इसमें असुरक्षा, पेशेवर और घरेलू संघर्ष के साथ-साथ क्या होना चाहिए और मैं क्या चाहती हूं के बीच की जद्दोजहद शामिल है।

 


मेरी गीता, द्वारा देवदत्त पटनायक 
एक ऐसी दुनिया में जो संवाद पर तर्क-वितर्क से मंत्रमुग्ध लगती है। देवदत्त इस बात पर प्रकाश डालते हैं कि कैसे कृष्ण अर्जुन को उसके रिश्तों के बारे में कोई निर्णय लेने की बजाए उन्हें उसे समझने के लिए प्रेरित करते हैं। यह आज प्रासंगिक हो जाता है जब हम तेजी से स्वयं को शामिल और अलग कर रहे हैं (आत्म-सुधार, आत्म-प्राप्ति, आत्म-प्राप्ति - यहां तक कि सेल्फी भी!) हम भूल जाते हैं कि हम दूसरों के पारिस्थितिकी तंत्र में रहते हैं, जहां हम भोजन के साथ प्यार और विचारों के जरिए एक दूसरे के साथ आगे बढ़ सकते हैं। बेशक हम एक दूसरे से संघर्ष ही क्यों न करें।


चाणक्य नीति, द्वारा आचार्य चाणक्य 
चाणक्य एक भारतीय शिक्षक, दार्शनिक और शाही सलाहकार थे। उन्होंने कम उम्र में पहले मौर्य सम्राट चंद्रगुप्त के सत्ता शीर्ष पर पहुंचने में मदद की। मौर्य साम्राज्य की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए उन्हें व्यापक रूप से श्रेय दिया जाता है, जो पुरातात्विक रूप से दर्ज इतिहास में अधिकांश भारतीय उपमहाद्वीप पर शासन करने वाला पहला साम्राज्य था। चाणक्य को पारंपरिक रूप से कौटिल्य या विष्णु गुप्त के रूप में पहचाना जाता है, जिन्होंने अर्थशास्त्र नामक प्राचीन भारतीय राजनीतिक ग्रंथ लिखा था। उन्हें भारत में अर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञान के क्षेत्र का अग्रणी माना जाता है और उनके काम को शास्त्रीय अर्थशास्त्र का एक महत्वपूर्ण अग्रदूत माना जाता है।


मुंशी प्रेमचंद की गोदान 
गोदान, एक भारतीय किसान के पूरे जीवन की एक जीवंत तस्वीर है, जिसमें उसकी आकांक्षा और निराशा, उसकी ईमानदारी और धार्मिक पवित्रता, उसकी बेबसी और मासूमियत शामिल है।


दो दूनी प्यार  द्वारा दिव्य प्रकाश दुबे 
दो दूनी प्यार, एक ऑडिबल ऑरिजिनल दिव्य प्रकाश दुबे की आवाज में। दुनिया के हिसाब किताब में दो दूनी चार होता है और यादों की किताब में दो दूनी प्यार होता है। दो दूनी प्यार की कहानियां असल में हमारे खोये हुए- दिन, मोहल्ले, शहर, गलियां और सड़कें हैं। यादों की गलियों के पास से गुजरती हुई एक पगडंडी जहां हमारे पुराने दोस्त हैं, डायरी के मोड़े हुए पन्ने हैं, पुरानी ब्लैक एंड व्हाइट तस्वीरें हैं, लंबे बेफिक्र दिन हैं, रात से लंबी बाते हैं।

 


श्रेष्ठता का मनोविज्ञान, द्वारा ओशो
श्रेष्ठ वही है, जो झुक सकता है। इस प्रवचन में ओशो एक बहुत गहरी बात कह रहे हैं, जो महत्वाकांक्षा की दौड़ के विपरीत है। सागर इतना विराट है क्योंकि वह सबसे नीचे है, इसलिए हर झरना उसी में आकर गिरता है। पूरब ने बहुत बहुत तरह से झुकने का और सब कुछ पाने का राज जान लिया है। जिन्हें हीनता की ग्रंथि है, वे ही दौड़ते हैं।


बागी सुल्तान- खिलजी से शिवाजी तक का दक्कन , द्वारा एस. पिल्लई 
विद्रोही सुल्तांस (विद्रोही सुल्तानों) में मनु एस पिल्लई 13वीं शताब्दी के अंत से 18वीं सदी की शुरुआत तक की दक्कन की कहानी सुनाते हैं। रोचक कहानियों और सम्मोहक पात्रों से भरी यह पुस्तक हमें अलाउद्दीन खिलजी के युग से शिवाजी के आरोहण तक ले जाती है। हम विजयनगर साम्राज्य के नाटकीय उत्थान और पतन को देखते हैं। यहां तक कि हम बहमनी राजाओं और विद्रोही सुल्तानों के दरबार में षडयंत्रों के बारे में बातचीत करते हैं, जिन्होंने उसे उखाड़ फैंका।

 

चांद बीबी (एक बहादुर रानी जिसकी चाकू मारकर हत्या कर दी गई), और बीजापुर के इब्राहिम द्वितीय (एक मुस्लिम राजकुमार, जिसने हिंदू देवताओं की पूजा की) से लेकर मलिक अंबर (इथियोपियाई सरदार), और हीरा सिंहासन पर बैठे विजयनगर के कृष्णदेव राय समेत सभी के दर्शन होते हैं, जब हम भारतीय इतिहास के सर्वाधिक दिलचस्प कालखंड से गुजरते हैं। हमारे मध्ययुगीन अतीत में एक भूले हुए अध्याय को उजागर करते हुए विद्रोही सुल्तान हमें दक्कन में एक अलग युग और एक अलग समय की याद दिलाते हैं , एक जिसने एक साम्राज्य को समाप्त किया और भारत के भाग्य को फिर से लिखा।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

AJIT DHANKHAR

Recommended News