Vidur Niti: ये है इंसान के जीवन का असली सुख

1/15/2020 1:17:59 PM

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
हमारे हिंदू धर्म में ऐसे बहुत से ग्रंथ शामिल हैं, जिनके माध्यम से व्यक्ति अपने जीवन को अच्छे तरीके से जी सकता है। ऐसा ही एक ग्रंथ हैं महाभारत, जिसका हर एक पात्र खास रहा है और उसी में से है महात्मा विदुर, जोकि महाराज धृतराष्ट्र के मंत्री थे। उन्होंने समय-समय पर धृतराष्ट्र को कई नीतियों के बारे में बताया और वे नीतियां न केवल उस समय बल्कि आज के समय में उतनी ही उपयोगी हैं। कहते हैं कि अगर कोई व्यक्ति विदुर द्वारा बताई गई नीतियों को अपना लेता है तो उसका जीवन सुधर सकता है। आज हम आपको उनकी नीति में से ऐसी चीज़ों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें मनुष्य जीवन का सबसे बड़ा सुख माना गया है।
PunjabKesari
श्लोक
आरोग्यामानृण्यमविप्रवासः सद्धिर्मनुष्यैः सह स्मप्रयोगः।
स्वप्रत्यया वृत्तिरभीतवासः षड् जीवनलोकस्य सुखानि राजन्।।
अर्थ-
स्वस्थ रहना, किसी से उधार न लेना, परदेश में (अपने देश से बाहर) न रहना, अच्छे लोगों के साथ मेल होना, अपनी वृत्ति से जीविका चलाना (जीवन व्यापन के लिए किसी पर निर्भर न होना) और निडर होकर रहना- ये छः इस लोक के सुख है।
Follow us on Twitter
निरोग रहना
हर किसी का ख्वाब होता है कि वे हमेशा स्वास्थ्य रहे, लेकिन मनुष्य कभी न कभी किसी न किसी बीमारी की चपेट में आ ही जाता है। बीमार मनुष्य कोई भी काम ठीक से नहीं कर पाता। ऐसे मनुष्य को अपनी शरीर क साथ-साथ धन का भी नुकसान उठाना पड़ता है। ऐसे में जो लोग अपना ध्यान रखते हैं वे ही निरोगी जीवन व्यतीत करते हैं। 
PunjabKesari
ऋणि न होना
मनुष्य को अपनी आय के अनुसार ही अपनी इच्छाएं रखनी चाहिए। कई लोगों का मन वश में नहीं होता और वे अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए दूसरों से उधार ले लेते हैं। दूसरों से पैसे उधार लेकर पाई गई सुविधाएं कभी सुख नहीं देती। अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए लोग उधार तक ले लेते हैं, जोकि सही नहीं होता है। 

देश में रहना
कई कारणों से लोग अपना देश छोड़कर किसी और देश में रहने लगते हैं। ऐसा करने का कारण चाहे जो भी हो, लेकिन अपने देश में रहने का जो सुख है, वह कहीं और नहीं मिल सकता। 
PunjabKesari
अच्छे लोगों की संगति करना
जो मनुष्य अच्छे और विद्वान लोगों से दोस्ती रखता है, उनके साथ अपना समय बिताता है, वह बहुत ही सुखी माना जाता है, क्योंकि बुरे लोगों की संगति का परिणाम भी बुरा ही होता है। जो मनुष्य दुष्ट और हिंसक लोगों के साथ मेल-मिलाप रखता है, उसे आगे चलकर कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। 
Follow us on Instagram
निडर होकर जीना
जिसकी अपने से ज्यादा ताकतवर इंसान से दुश्मनी होती है, वह पूरा समय उसी दुश्मन के बारे में सोचता रहता है। ताकतवर दुश्मन उसे और उसके परिवार को किसी भी तरह की नुकसान पहुंचा सकता है। किसी बात या मनुष्य के डर में जीने वाला मनुष्य कभी अपने जीवन का पूरा आनंद नहीं ले पाता। इसलिए, जो व्यक्ति बिना किसी भय के अपना जीवन जीता है, वह सबसे सुखी माना जाता है।


Lata

Related News