वैज्ञानिक भी मानते हैं गंगा जल में हैं शक्तियां, स्नान मात्र से दूर होते हैं रोग विकार

punjabkesari.in Saturday, Apr 11, 2020 - 12:57 PM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
वैसाख मास के प्रारंभ होते ही गंगा जल का इस्तेमाल बढ़ जाता है क्योंकि धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ये पूरा माह दान-पुण्य व गंगा स्नान आदि जैसे कार्यों के लिए विशेष होता है। तो वहीं वैसाख मास का ये महीना जग के पालनकर्ता श्री हरि विष्णु जी का प्रिय माह है। पर क्योंकि इस समय पूरे देश में लॉकाडाउन है इसलिए इस बार गंगा तटों पर स्नान आदि करना समभव नहीं है। मगर आपको बता दें आप घर बैठे गंगा स्नान का लाभ उठा सकते हैं। बल्कि इतना ही नहीं इससे आप अपने जीवन में मौज़ूद वास्तु दोषों को भी ठीक कर सकते हैं।

जी हां, शायद बहुत कम लोग जानते हैं मगर गंगा जल से जुड़े ऐसे कई उपाय बताए गए हैं जिन्हें करने से वास्तु दोष खत्म होते हैं और जीवन में चल रही परेशानियां खत्म हो जाती हैं। अगर धार्मिक दृष्टि से देखें तो हिंदू धर्म में केवल इसके यानि गंगा जी के दर्शन मात्र से जीवों के कष्टों का हमेशा हमेशा के लिए खात्मा हो जाता है। तो वहीं इसके के स्पर्श से स्वर्ग की प्राप्ति होती है। 

कहा जाता है कि जीव को पाठ, यज्ञ, मंत्र, होम और देवार्चन आदि समस्त शुभ कर्मों से भी वह गति प्राप्त नहीं होती जो गंगाजल के सेवन से प्राप्त होती है। ग्रंथों में वर्णन मिलता है कि मां गंगा शुद्ध, विद्यास्वरूपा, इच्छाज्ञान एवं क्रियारूप, दैहिक, दैविक तथा भौतिक तापों को शमन करने वाली, धर्म, अर्थ, काम एवं मोक्ष चारों पुरूषार्थों को देने वाली शक्ति स्वरूपा हैं। तो आइए जानते हैं गंगा जल से जुड़ी इन उपायों के बारे में-

जहां पौराणिक मान्यताओं के अनुसार मां गंगा में स्नान आदि करने से व पूजा आदि से पापों का नाश होता है तो वहीं वैज्ञानिक मान्यता ये है कि गंगा के पानी में कई प्रकार के औषधीय गुण पाए जाते हैं जिसमें नहाने से मानव जीव के तमाम रोग ठीक हो जाते हैं। 

कुछ लोगों के घर में वास्तुदोष होते हैं अगर वो रोज़ाना अपने घर में नियमित गंगाजल का छिड़काव करते हैं तो वहीं से नकारात्मक ऊर्जा का नाश होता है और सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है जिससे वास्तु दोष ख्त्म हो जाते हैं। इससे पारिवारिक सद्स्यों के बीच स्नेह भी बढ़ता है। 

अक्सर देखा जाता छोटे बच्चों को बहुत जल्दी नजर लग जाती है। अगर ऐसा हो तो उस पर गंगा जल के छींटे दें। इससे नजर का दुष्प्रभाव कम हो जाता है।

अगर किसी को रात में डरावने सपने परेशान करत हो तो ऐसे में हमेशा सोने से पहले बिस्तर पर गंगाजल का छिड़काव करना चाहिए। वास्तु विशेषज्ञों का मानना है कि ऐसा करने से बुरे सपने आने बंद हो जाते हैं।

इसके अलाव सोमवार की शिव पूजा में शिवलिंग पर गंगा जल से अभिषेक करने से भोलेनाथ जल्द ही प्रसन्न होते है और जीवन से सभी विकार दूर जाते हैं।

इसी प्रकार प्रत्येक शनिवार एक लौटे में साफ़ जल भरकर उसमें थोड़ा सा गंगाजल डालकर इसे पीपल पर अर्पित कर दें।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Jyoti

Related News

Recommended News