वृश्चिक राशि को मिलेगी निजात, कुंभ पर शुरू होगी साढ़ेसाती

2020-01-18T12:10:03.277

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
वृष व कन्या राशि पर ढैया खत्म होगी
जालंधर (नरेश): ज्योतिष में न्याय के देवता शनिदेव 24 जनवरी को राशि परिवर्तन करने जा रहे हैं। शनि 24 जनवरी को दोपहर 12.10 बजे धनु राशि से निकल कर मकर राशि में प्रवेश करेंगे और 17 जनवरी 2023 तक इसी राशि में रहेंगे। इसके बाद शनि का कुंभ राशि में गोचर होगा। शनि के मकर राशि में प्रवेश करते ही वृश्चिक राशि के जातकों को शनि की साढ़ेसाती से मुक्ति मिल जाएगी जबकि इस गोचर के साथ ही कुंभ राशि के जातक शनि की साढ़ेसाती के प्रभाव में आ जाएंगे। शनि के इस गोचर के साथ वृष एवं कन्या राशि के जातकों पर चल रही शनि की ढैया भी समाप्त हो जाएगी जबकि मिथुन व तुला राशि पर शनि की ढैया का प्रभाव शुरू हो जाएगा। इस गोचर के दौरान 3 राशियों को शनि के प्रभाव से मुक्ति मिलेगी जबकि 3 नई राशियां शनि के प्रभाव में आ जाएंगी।
PunjabKesari,Shani Dev, Shani, Saturn, शनि देव, शनि
मकर राशि पर शुरू होगी दूसरी ढैया
शनि के इस गोचर के साथ ही कुंभ राशि के जातकों पर शनि की साढ़ेसाती का पहला ढैया शुरू होगा जबकि धनु राशि के जातकों पर शनि साढ़ेसाती की अंतिम ढैया चलेगी। मकर राशि के जातक शनि की साढ़ेसाती की दूसरी ढैया से गुजरेंगे। यदि जातकों की साढ़ेसाती की शुरुआत खराब हुई है तो सामान्य तौर पर शनि की आखिरी ढैया के दौरान जातकों को अच्छे फल मिलते हैं जबकि शनि की साढ़ेसाती की शुरुआत यदि अच्छी रहे तो अंतिम चरण में अच्छे फल नहीं मिल पाते।
PunjabKesari,Shani Dev, Shani, Saturn, शनि देव, शनि
शनि न्याय के देवता हैं और यदि जातक अच्छे काम करते हैं तो उन्हें साढ़ेसाती के दौरान शनि का अच्छा फल मिलता है लेकिन यदि कोई पाप कर्म में लिप्त हैं तो शनि की साढ़ेसाती के दौरान उसके परिणाम भुगतने पड़ते हैं। शनि की साढ़ेसाती का फल जातकों की कुंडली में शनि की स्थिति पर भी निर्भर करता है। यदि कुंडली में शनि योगाकारक है अथवा अच्छी स्थिति में है तो शनि के अच्छे फल ही मिलते हैं। लिहाजा जातकों को शनि के इस गोचर से डरने की जरूरत नहीं है। -राजिंद्र बिट्टू, जालंधर
PunjabKesari, Kundli, कुंडली, Horoscope


Jyoti

Related News