Muni Shri Tarun Sagar: धन तो बढ़ रहा है पर उम्र घट रही है

punjabkesari.in Monday, Aug 16, 2021 - 11:35 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

जिंदगी ‘वड-डे’ मैच की तरह
किसी ने मुझसे सवाल किया, ‘‘जिंदगी क्या है?’’

मैंने कहा, ‘‘एक आदमी फुटपाथ पर सिगरेट पीता जा रहा था। पांव के नीचे केले का छिलका आ गया। वह फिसल कर गिर पड़ा और खत्म हो गया। सिगरेट जल रही थी पर आदमी बुझ गया था। बस यही है जिंदगी। जिंदगी वन-डे मैच की तरह है जिसमें रन तो बढ़ रहे हैं पर ओवर घट रहे हैं। मतलब धन तो बढ़ रहा है पर उम्र घट रही है।’’

PunjabKesari Muni Shri Tarun Sagar
गरीब और अमीर में फर्क
गरीब और अमीर में एक फर्क है। गरीब को आज की रोटी की फिक्र है तो अमीर को कल की रोटी की फिक्र है। फिक्र दोनों को है। दुनिया में न तो कोई इतना अमीर है जो अपने अतीत को खरीद सके और न ही कोई  इतना गरीब है जो मुस्कराहट का भी दान न कर सके।
ध्यान रखना, ‘‘आदमी अमीर और गरीब मनी (पैसा) के होने या न होने से नहीं होता, बल्कि मन के सोचने और समझने से होता है।’’

दो व्यक्ति आपस में बात कर रहे थे। एक ने कहा, ‘‘यार! मैं ताजमहल बनवाना चाहता हूं पर क्या करूं? मुझे मुमताज ही नहीं मिलती।’’

फिर दूसरे ने कहा, ‘‘यार! मैं भी ताजमहल बनवाना चाहता हूं पर क्या करूं? मेरी मुमताज ही नहीं मरती।’’

PunjabKesari Muni Shri Tarun Sagar
हर समस्या का समाधान है तपस्या
अमीर हो या गरीब हर आदमी के सामने समस्या है। समस्या का एक ही समाधान है और वह है तपस्या। खाने के लिए जीना समस्या है और जीने के लिए खाना तपस्या है।

PunjabKesari Muni Shri Tarun Sagar
सत्संग का लाभ
मेरा कहना है कि टायर में पंक्चर कहां है, यह जानने के लिए टायर को पानी में डुबोना पड़ता है और मन में खोट कहां है यह जानने के लिए इंसान को सत्संग में जाना पड़ता है। सत्संग वह गंगा है जिसमें कंस डुबकी लगाए तो हंस बनकर और हंस डुबकी लगाए तो परम हंस बनकर निकले।

यदि मच्छर के मुख से बुखार चढ़ सकता है तो महापुरुषों के श्रीमुख से भक्ति का रंग क्यों नहीं चढ़ सकता?  


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Related News

Recommended News