21 दिन लगातार कर लें ये उपाय, संकटमोचन दूर करेंगे कुंडली के समस्त दोष

11/16/2019 12:29:47 PM

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
मंगलवार को हनुमान जी की पूजन का विधान है परंतु अगर कोई इस दिन इनकी आराधना न कर पाए तो शनिवार का दिन भी इसके लिए श्रेष्ठ रहता है। संकटमोचन हनुमान जी की पूजा से समस्त संकटों से मुक्ति मिलती है। साथ ही साथ इनकी पूजा से जातक की कुंडली में चल रहे मंगल दोष व शनि दोष से भी छुटकारा मिल जाता है। तो अगर आप में से भी किसी की कुंडली में कालसर्प दोष की समस्या चल रही है जिस कारण आपको अपने जीवन में कई कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है। तो बता दें आज हम आपके लिए आपकी इस परेशानी का हल लाएं हैं।दरअसल शास्त्रों में कुछ ऐसे उपाय आदि बताएं गएं हैं, जिनका पालन करने से आपके कुंडली में से सभी तरह के दोष खत्म हो सकते हैं साथ ही साथ जीवन सरल होगा। बता दें ये उपाय हनुमान मंदिर करने होंगे तभी इसका शुभ फल प्राप्त होगा।
PunjabKesari,Dharam, Kaal Sarp, Jyotish Upay of Lord Hanuman ji, Special upay of lord hanuman ji, कालसर्प दोष, कुंडली में कालसर्प दोष, हनुमान जी, Lord Hanuman Ji, Jyotish Vidya, Jyotish Gyan, Astrology In Hindi ज्योतिषशास्त्र
उपाय से पहले जान लें ये खास नियम-
मान्यता है जो व्यक्ति काल सर्प दोष से परेशान हो उसे ये उपाय ज़रूर करना चाहिए।
इस उपाय को लगातार 21 दिनों तक करना चाहिए।
अपनी सुविधा के अनुसार ये उपाय सुबह एवं शाम दोनों समय करना चाहिए।
ध्यान रहे इस उपाय को किसी भी शनिवार या मंगलवार के दिन ही प्रारंभ करें। और इस उपाय के दौरान (21 दिनों तक) ब्रह्मचर्य का पालन करें।
सुबह-शाम उपाय करने से पूर्व सरसों के तेल या गाय के घी का दीपक जलाएं।
उपाय के पहले एवं आख़िरी दिन के अलावा 21 दिनों के बीच में जीतने भी शनिवार और मंगलवार पड़ें उस दिन विशेष रूप से आक के 11 पत्तों की अपने हाथ से लाल धागे में माला बनाएं।
संभव हो तो ये उपाय सुबह 8 बजे से पहले एवं रात्रि में 9 बजे से पहले ही कर लें।
Punjab kesari, Dharam, Kaal Sarp, Jyotish Upay of Lord Hanuman ji, Special upay of lord hanuman ji, कालसर्प दोष, कुंडली में कालसर्प दोष, हनुमान जी, Lord Hanuman Ji, Jyotish Vidya, Jyotish Gyan, Astrology In Hindi ज्योतिषशास्त्र

कालसर्प दोष से मुक्ति के लिए करें यह उपाय-
उपरोक्त नियमों का पालन करते हुए- शुद्ध, पवित्र होकर आसपास के किसी भी हनुमान मंदिर में जाकर सबसे पहले बजरंगबली के समक्ष दीपक जलाएं फिर सुबह-शाम दोनों का समय मिलाकर 108  बार "ॐ हनुमते नमः" मंत्र का जाप करें। मंत्र उच्चारण के दौरान संकटमोचन से कालसर्प दोष से मुक्ति दिलवाने की मन ही मन प्रार्थना करें। मंत्र जाप के बाद 5 बार एवं शाम को 2 बार यानि कुल मिलाकर 7 बार श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें। ये उपाय लगातार 21 दिनों तक इसी विधि से करें। मान्यता है ऐसा करने से बिना 1 रुपया पैसा खर्च किए कालसर्प दोष से मुक्ति मिल जाती है।


Jyoti

Related News