तनाव रहित जीवन के लिए जरूरी है ये एक चीज़

2020-01-26T13:22:26.937

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
परेशानियों को हल्के रूप में लेना और हंसते-मुस्कुराते छोटी-छोटी खुशियों को जी भर जीना ही असली अर्थों में जीना है। हंसना-मुस्कुराना कभी किसी दौर का मोहताज नहीं रहा है। लेकिन इन दिनों अस्त-व्यस्त जीवन शैली, भागती दिनचर्या और अनिश्चितता व असंतोष में डूबे मनुष्यों के लिए हंसते-मुस्कुराते रहना मुश्किल हो गया है।
PunjabKesari
जिंदगी एक दौड़-सी बन गई है। समय के साथ आदमी भी जैसे बस भागता जा रहा है। सुबह से शाम तक एक पड़ाव के बाद दूसरा पड़ाव। दूर-दूर तक ठहराव का कोई ङ्क्षबदु ही नहीं। ऐसे में जब मन में सबसे आगे निकलने का घमासान छिड़ा हो तो हंसी के लिए समय ही कहां बचेगा। हमने सहज रहना छोड़ दिया है और जो सहज नहीं है उसके लिए हंसना भी संभव नहीं है। बिना हंसी जीवन तनाव से भरा हुआ और बोझिल होता है।
Follow us on Twitter
Follow us on Instagram
हंसने से बचने के पीछे यह धारणा भी है कि गंभीर दिखने से व्यक्तित्व आकर्षक बनता है। अधीनस्थ कर्मचारियों के साथ या परिवार के सदस्यों के बीच खुल कर हंसी-दिल्लगी करने से पद की गरिमा और बड़प्पन पर विपरीत असर पड़ सकता है। जब इस तरह की सोच बन जाए तो होंठों पर हंसी आ ही नहीं सकती। हमारी नकारात्मकता इतनी बढ़ गई है कि सामान्य रूप से हंसने वाली बात में भी तर्क ढूंढ लेते हैं और हंसी गायब हो जाती है। बदलते जीवन स्तर के कारण परिवार के सभी सदस्यों के अपने-अपने कमरे, टी.वी., लैपटॉप और मोबाइल हो गए हैं। साथ उठना-बैठना ही नहीं होता, फिर साथ हंसना कैसे हो?
PunjabKesari
ध्यान दें तो स्पष्ट होगा कि संसार हमें न हंसने के तमाम कारण मुहैया करा रहा है लेकिन हंसने की उससे कहीं ज्यादा वजहें हमारे पास मौजूद हैं। बस उन वजहों तक पहुंचने की जरूरत है। जब हम हंसते-मुस्कुराते रहते हैं तो हमारे आसपास के लोग भी हंसते-मुस्कुराते हैं। दूसरों के जीवन में खुशी लाने की इच्छा हमारे जीवन में खुशियों का सबसे बड़ा स्रोत बन जाती है। हमारी मुस्कान हमारे चेहरे पर भगवान का हस्ताक्षर है। उसे अपने आंसुओं से धुलने या क्रोध से मिटने न दें। हंसता हुआ चेहरा शान बढ़ाता है और हंसकर किया हुआ काम पहचान बढ़ाता है। समय मिलते ही अपने अंदर छिपे हास्य रस को बाहर निकालिए और खुल कर हंसिए।


Lata

Related News