Basant Panchami 2020: अपनी राशि अनुसार करें पूजन और मंत्र जाप

2020-01-16T15:45:08.143

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
माघ मास के प्रारंभ होते ही व्रत और त्योहार शुरू हो जाते हैं। इसी के बीच माघ महीने शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को वसंत पंचमी का पर्व मनाया जाता है और इस साल ये दिन 29 जनवरी को मनाया जा रहा है। शास्त्रों के अनुसार इस दिन माता सरस्वती की पूजा होती है। इसके साथ ही इस दिन सर्वार्थ सिद्धि और रवि योग का संयोग बन रहा है, जोकि बहुत ही शुभ माना जा रहा है। 
आज हम आपको आपकी राशि अनुसार उपाय बताने जा रहे हैं, जिन्हें करने से आपके घर सुख-समृद्धि आएगी।
PunjabKesari, Basant Panchami 2020, Vasant Panchami 2020, basant 2020
मेष- हनुमान जी की पूजा कर उनके बाएं चरण का सिन्दूर लेकर वसंत पंचमी से नित्य तिलक करें तथा हनुमान चालीसा का पाठ करें। विद्या व बुद्धि के लिए 'ऐं' का जप करें।

वृष- इमली के पत्ते 22 नग लेकर 11 पत्ते माता सरस्वती के यंत्र या चित्र पर चढ़ाएं। 11 पत्ते अपने पास सफेद वस्त्र में लपेटकर रखें, सफलता मिलेगी।
Follow us on Twitter

मिथुन- भगवान गणेश का यथा उपचार-पूजन कर यज्ञोपवीत चढ़ाएं तथा 21 बार 'ॐ गं गणपतये नम:' का जप कर चढ़ाएं। विद्या प्राप्ति के विघ्न दूर होंगे।

कर्क- माता सरस्वती के यंत्र या चित्र पर 'ॐ ऐं सरस्वत्यै नम:' जप कर आम के बौर चढ़ाएं।
PunjabKesari, Basant Panchami 2020, Vasant Panchami 2020, basant 2020
सिंह - 'ॐ ऐं नम:..' गायत्री मंत्र 'नमो ऐं ॐ' से संपुटित कर जपें, लाभ होगा।

कन्या - पुस्तक, ग्रंथ इत्यादि दान करें तथा 'ॐ ऐं नम:' का जप करें।

तुला - ग्रंथ तथा सफेद वस्त्र किसी ब्राह्मण कन्या को पूजन कर दान करें तथा सफेद मिठाई खिलाएं। 'ॐ ऐं नम:' का जप करें।

वृश्चिक - माता सरस्वती का पूजन कर श्वेत रेशमी वस्त्र चढ़ाएं तथा कन्याओं को दूध से बनी मिठाई खिलाएं। 'ॐ ऐं सरस्वत्यै नम:' का जप करें।

धनु - माता सरस्वती का पूजन करें तथा सफेद चंदन चढ़ाएं और वस्त्र दान करें।

मकर - सूर्योदय के पहले ब्राह्मी नामक औषधि का सेवन कर 'ॐ ऐं सरस्वत्यै नम:' से मंत्रि‍त कर पी लें। सफलता कदम चूमेगी।
PunjabKesari, Basant Panchami 2020, Vasant Panchami 2020, basant 2020
कुंभ - माता सरस्वती का पूजन कर कन्याओं को खीर खिलाएं तथा 'ॐ ऐं नम:' जपें।
Follow us on Instagram
मीन - अपामार्ग की जड़ शास्त्रीय तरीके से निकालकर पुरुष अपनी दाहिनी भुजा तथा स्त्री अपनी बाईं भुजा पर 'ॐ ऐं सरस्वत्यै नम:' की 11 माला, स्फटिक माला से कर सफेद वस्त्र में बांधकर धारण करें।


Lata

Related News