जब तक बस्तर के लोग सहमत नहीं होंगे, बोधघाट परियोजना प्रारंभ नहीं की जाएगी: बघेल

punjabkesari.in Monday, Jun 06, 2022 - 08:06 PM (IST)

रायपुर, छह जून (भाषा) छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि जब तक बस्तर के लोग सहमत नहीं होंगे, इंद्रावती नदी में प्रस्तावित बोधघाट परियोजना प्रारंभ नहीं की जाएगी।
राज्य के जनसंपर्क विभाग के अधिकारियों ने बताया कि सोमवार को मुख्यमंत्री बघेल ने कांकेर में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि विकास कार्य जन सरोकारों से जुड़े होते हैं। उन्होंने कहा कि बस्तर के लोग जब तक सहमत नहीं होंगे, बोधघाट परियोजना प्रारंभ नहीं की जाएगी।

मुख्यमंत्री बघेल इन दिनों अपने जनसंपर्क अभियान ‘भेंट मुलाकात’ के तहत बस्तर क्षेत्र के दौरे पर हैं। मुख्यमंत्री ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि बस्तर में तेजी से विकास कार्य कराए जा रहे हैं और साढ़े तीन सालों में बस्तर विकास के क्षेत्र में काफी आगे बढ़ा है।
उन्होंने कहा कि ग्रामीण विकास और खेती किसानी को लेकर शासन ने जो निर्णय लिए हैं, उससे तेजी से लोगों की आर्थिक स्थिति मजबूत हुई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर भेंट-मुलाकात में बैंक खोलने संबंधी मांग अधिक आ रही है।
बघेल ने कहा कि वाहनों की खरीद बढ़ी है और ट्रैक्टर, कार, बाइक के नए शो रूम तेजी से खुल रहे हैं। वनोपज संग्रहण की नीति का जिक्र करते हुए कहा कि महुआ की खरीदी बढ़ी है।
बघेल ने कहा कि काजू से लेकर बाजरा और महुआ तक का मूल्य संवर्धन हो रहा है।
शिक्षा के क्षेत्र में स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूलों तथा स्वास्थ्य क्षेत्र में मोबाइल मेडिकल यूनिट के माध्यम से लोगों को बेहतर सुविधाएं मिलने का जिक्र मुख्यमंत्री ने किया।

बघेल ने कहा कि जनहित के किसी भी कार्य में विलंब नहीं किए जाने को लेकर सख्त निर्देश दिए गए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कहीं-कहीं बंदोबस्त त्रुटि को लेकर दिक्कत आई है, इसलिए ड्रोन से सर्वे कर त्रुटि दुरुस्त करने के निर्देश दिए गए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास कार्य संबंधी घोषणाओं को लेकर 15 दिनों में क्रियान्वयन के निर्देश अधिकारियों को दिए गए हैं।

अधिकारियों ने बताया कि इंद्रावती नदी में प्रस्तावित बोधघाट बहुउद्देशीय परियोजना को वर्ष 1979 में केंद्र सरकार से पर्यावरण स्वीकृति मिली थी।
नया वन संरक्षण अधिनियम वर्ष 1980 में लागू हुआ और 1985 में एक बार फिर इस परियोजना के लिए पर्यावरण स्वीकृति मिली। उन्होंने बताया कि बोधघाट परियोजना के लिए दंतेवाड़ा जिले के गीदम विकासखंड में बांध का निर्माण किया जाना प्रस्तावित है, लेकिन इस संबंध में प्रगति नहीं हो पाई है।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News