हरियाणा में हर नागरिक का स्वास्थ्य परीक्षण करने की योजना होगी लागू : मुख्यमंत्री

punjabkesari.in Saturday, Nov 26, 2022 - 08:09 PM (IST)

चंडीगढ़,(पांडेय): हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा प्रदेश में हर नागरिक का स्वास्थ्य परीक्षण साल में कम से कम एक बार जरूर होना चाहिए। इसके लिए योजना तैयार कर ली गई है। मुख्यमंत्री स्वास्थ्य परीक्षण नामक इस अनूठी योजना का शुभारंभ देश की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू 29 नवम्बर को अपने कुरुक्षेत्र दौरे के दौरान करेंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि साल में हर नागरिक का स्वास्थ्य परीक्षण एक बार अवश्य होना चाहिए ताकि उसके शरीर कि कोई भी व्याधि अगर प्रारंभिक दौर में है तो उसका भी पता लग जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम इस योजना को पहले चरण में 1.80 लाख रुपए वाॢषक तक की आय वाले अंत्योदय परिवारों से शुरू करेंगे। प्रथम चरण में अंत्योदय परिवारों के सदस्यों के स्वास्थ्य का परीक्षण होगा और उसके बाद अगले चरण में इस योजना को यूनिवर्सल बनाकर सभी प्रदेशवासियों के स्वास्थ्य की जांच करवाई जाएगी।

 

 


बजट पूर्व बैठक में केंद्रीय वित्त मंत्री को दिए परामर्श 
केंद्रीय वित्त मंत्री के साथ केंद्रीय बजट पूर्व बैठक के बारे में पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हर वर्ष की भांति बजट पूर्व सभी प्रदेशों के वित्त मंत्रियों से सुझाव लेने की परंपरा को जारी रखने के लिए केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बधाई की पात्र हैं। मनोहर लाल ने कहा कि हमने भी उस बैठक में प्रदेश के विकास का विजन रखते हुए कई सुझाव दिए हैं। 
 

 

 

3 समॢपत कोष स्थापित करेगा हरियाणा, केंद्र भी बनाए तो बेहतर :
मुख्यमंत्री ने कहा कि ईज ऑफ डूइंग बिजनैस में हरियाणा देश में तीसरे स्थान पर है और उसके साथ-साथ अब हम ईज ऑफ लिविंग की ओर आगे बढ़ रहे हैं। इसके लिए राज्य सरकार का 3 समॢपत कोष स्थापित करने का प्रस्ताव है और केंद्र को भी बनाने चाहिए। जलवायु परिवर्तन, जैव विविधता और प्रकृति के नुकसान, प्लास्टिक के प्रसार समेत प्रदूषण और कचरे के मामले में पृथ्वी, जिसकी हर संकट से जूझ रही है, नियमित आॢथक गतिविधियों में इन चुनौतियों से निपटने के लिए मुख्यधारा की रणनीतियों की तत्काल आवश्यकता है। दूसरा निर्णय-निर्धारण, निवेश और विकास को बढ़ाने हेतु विज्ञान और छात्रवृत्ति को जोडऩे के लिए विश्वविद्यालयों, अन्य शिक्षण संस्थानों तथा सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों के आॢथक उद्यमियों में वैज्ञानिक गतिविधि और छात्रवृत्ति को प्रोत्साहित करने के लिए अनुसंधान एवं नवाचार कोष की स्थापना और तीसरा वेंचर कैपिटल फंड अर्थात उद्यमिता को बढ़ावा देने और विकासशील बाजार से जुडऩे के साथ-साथ वित्तीय सहायता देकर स्टार्टअप स्थापित करने में युवाओं की सहायता हेतु उद्यम पूंजी कोष। इस कोष से स्टार्ट-अप को मजबूत करने के लिए ज्ञान और प्रौद्योगिकी तक पहुंच की सुविधा भी मिलेगी। 
 

 

 

सी.एन.जी.-पी.एन.जी. की सप्लाई बढ़ाने की रखी मांग
मुख्यमंत्री ने बताया कि एन.सी.आर. में जितनी औद्योगिक इकाइयां है, जिनमें ईंधन के तौर पर कोयला आदि जलाने से प्रदूषण फैलता है, इसलिए नैचुरल गैस, सी.एन.जी. पी.एन.जी. का उपयोग ज्यादा हो, इसके लिए हम सबसिडी दे रहे हैं। नैचुरल गैस पर वैट का 50 प्रतिशत दे रहे हैं, कैपिटल इन्वैस्टमैंट पर भी 30 प्रतिशत ग्रांट दे रहे हैं। इसमें केंद्र सरकार भी सहयोग करें ताकि एन.सी.आर. में पडऩे वाले क्षेत्र में हम प्रदूषण को कम कर सकें। इसके साथ-साथ सी.एन.जी. और पी.एन.जी. की सप्लाई बढ़ाने की मांग भी रखी गई है।
 

 

 

दूसरी फसलें बोने के लिए 700 करोड़ का किसानों को दिया प्रोत्साहन 
उन्होंने बताया कि हरियाणा में पानी की बचत के लिए ‘मेरा पानी मेरी विरासत’ योजना चलाई जा रही है। इस योजना पर पिछले वर्ष 700 करोड़ रुपए लगे हैं। योजना के तहत धान की बिजाई नहीं करने वाले किसानों को 7000 रुपए प्रति एकड़ देते हैं तो उसमें भी 700 करोड़ रुपए की राशि खर्च हुई है, क्योंकि इसमें प्रदेश में 1 लाख एकड़ धान को कम करके दूसरी विविधीकरण वाली फसलें उगाई गई है। इन योजनाओं को आगे बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार सहयोग करें। 
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Ajay Chandigarh

Related News

Recommended News