लंबे इंतजार के बाद आखिर पहली इलैक्ट्रिक बस पहुंची शहर

2021-07-31T23:36:26.85

चंडीगढ़, (राजिंद्र शर्मा): वर्षों के इंतजार और कई टैंडर के बाद आखिरकार शनिवार को शहर में पहली इलैक्ट्रिक बस पहुंच गई। परिवहन विभाग के निदेशक उमा शंकर गुप्ता ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि अभी विभाग किराया तय करने की प्रक्रिया में लगा है। किराया तय होने के बाद इस बस को ट्रायल पर चलाया जाएगा। वर्तमान में चंडीगढ़ ट्रांसपोर्ट अंडरटेकिंग (सी.टी.यू.) शहर में बसें चलाता है लेकिन ई-बसें चलाने के लिए विभाग ने निजी कंपनी का सहारा लिया है। 40 ई-बसों के लिए अशोक लेलैंड के साथ परिवहन विभाग का करार हुआ है। इसके अनुसार बस, चार्जिंग स्टेशन और रखरखाव का जिम्मा कंपनी का ही होगा। बस में ड्राइवर भी कंपनी का ही होगा। हालांकि, बस में कंडक्टर सी.टी.यू. का होगा। विभाग कंपनी को प्रति कि.मी. 60 रुपए का भुगतान करेगा। विभाग के अधिकारियों के अनुसार पहली बस को पी.जी.आई. से आई.टी. पार्क तक चलाया जाएगा। इस रूट के बीच में भी विभिन्न बस स्टॉप पर बस को रोका जाएगा। 

 


एक बार चार्ज होने के बाद यह करीब 180 किलोमीटर चलेगी
निजी कंपनी ने प्रशासन को बताया है कि 40 में 19 बसें अगस्त महीने में भेजी जाएंगी और फिर बाकी सभी सितम्बर में पहुंच जाएंगी। विभाग के अधिकारियों के अनुसार अक्तूबर में शहर की सड़कों पर 40 ई-बसें चलती दिखाई देंगी। बस में 36 लोगों के बैठने की जगह होगी लेकिन एक समय में बस में 54 सवारी सफर कर सकेंगी। बस दो से अढ़ाई घंटे में फुल चार्ज हो जाएगी और एक बार चार्ज होने के बाद यह करीब 180 किलोमीटर चलेगी। गौरतलब है कि इस योजना के लिए केंद्र सरकार ने 18 करोड़ की राशि चंडीगढ़ को दी है। कोरोना की वजह से हुए घाटे के कारण परिवहन विभाग ने खुद इलैक्ट्रिक बसें खरीदने से इन्कार कर दिया था तो केंद्र ने बीते साल 25 सितम्बर को चंडीगढ़ को 80 इलैक्ट्रिक बसों की सौगात दी थी। पहले फेज के तहत 40 बसों के लिए विभाग ने टैंडर जारी किया था।

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

AJIT DHANKHAR

Recommended News