ग्लोबल सिटी प्रोजैक्ट के लिए प्रमुख रियल एस्टेट डिवैल्पर्स व रियल एस्टेट केंद्रित फंडों की तलाश

punjabkesari.in Wednesday, May 11, 2022 - 08:06 PM (IST)

चंडीगढ़, (बंसल): हरियाणा के गुरुग्राम में स्थापित किए जाने वाले ग्लोबल सिटी प्रोजैक्ट के लिए प्रमुख रियल एस्टेट डिवैल्पर्स एवं रियल एस्टेट केंद्रित फंडों की तलाश के लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में दूसरा गोलमेज सम्मेलन आज मुम्बई में आयोजित किया गया। सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि अप्रैल, 2022 में गुरुग्राम में आयोजित पहले गोलमेज सम्मेलन के बाद आज मुम्बई में दूसरा गोलमेज सम्मेलन आयोजित किया गया था, जिसमें डी.एल.एफ., बेस्टेक, गोदरेज, मायहोम्स, मैक्स रियल्टी, भारती रियल्टी आदि के शीर्ष प्रतिनिधियों ने भाग लिया। 

 


मुख्यमंत्री ने कहा कि यह ग्लोबल सिटी प्रोजैक्ट हरियाणा राज्य औद्योगिक एवं आधारभूत संरचना विकास निगम, जो सरकार की एक नोडल एजैंसी है, के तत्वावधान में विकसित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि उनका विजन इस परियोजना को गुरुग्राम के केंद्रीय व्यापार जिले के रूप में विकसित करने का है, जिसमें आधुनिक प्रौद्योगिकी क्षेत्रों और भावी उन्मुख उद्योगों, निम्न कार्बन हरित बुनियादी ढांचे, सुगम जीवन, लोगों को  कौशल बनाने और रोजगार सृजित करने पर ध्यान केंद्रित किया गया है। मुख्यमंत्री ने गुरुग्राम को वैश्विक मानचित्र पर स्थापित करने की बात करते हुए कहा कि यह अद्वितीय, आधुनिक शहरी पारिस्थितिकी तंत्र नई तकनीक और नवाचार उद्योगों के लिए आधार के रूप में कार्य करेगा।

 


ग्लोबल सिटी प्रोजैक्ट एक मिश्रित भूमि उपयोग परियोजना 
इससे पूर्व, हरियाणा राज्य औद्योगिक एवं आधारभूत संरचना विकास निगम के अध्यक्ष वी. उमाशंकर के स्वागत और कांटैक्स सैटिंग संबोधन के साथ सम्मेलन की शुरूआत हुई और निगम के प्रबंध निदेशक विकास गुप्ता ने ग्लोबल सिटी प्रोजैक्ट पर एक विस्तृत प्रस्तुतीकरण दिया। प्रस्तुतीकरण में इस बात पर प्रकाश डाला गया कि ग्लोबल सिटी प्रोजैक्ट एक मिश्रित भूमि उपयोग परियोजना है जिसे निर्माणाधीन 8-लेन द्वारका एक्सप्रैसवे के साथ गुरुग्राम में सैक्टर-36 बी, 37 ए और 37 बी में विकसित हो रहे आवासीय और वाणिज्यिक केंद्र में लगभग 1003 एकड़ क्षेत्र पर ‘एक शहर के भीतर शहर’ के रूप में विकसित करने की कल्पना की गई है। 

 


यह परियोजना भावी शहरों के लिए एक प्रतिमान के रूप में काम करेगी 
प्रबंध निदेशक विकास गुप्ता ने विस्तार से बताया कि यह परियोजना जीवन की गुणवत्ता, बुनियादी ढांचे और परिवेश के मामले में भावी शहरों के लिए एक प्रतिमान के रूप में काम करेगी। उन्होंने कहा कि लिव, वर्क एंड प्ले के आदर्श वाक्य के साथ निर्मित की जाने वाली यह परियोजना पारिस्थितिकी तंत्र भविष्य के कार्यक्षेत्र, आधुनिक खुदरा स्थान, आवासीय टावर, सावधानीपूर्वक नियोजित विशाल हरे स्थान, समॢपत बस कॉरीडोर, एम.आर.टी.एस. (मैट्रो), हैलीपोर्ट सुविधाएं और मल्टी-मोडल कनैक्टिविटी विकल्प प्रदान करेगा। उन्होंने कहा कि पारगमन-उन्मुख विकास के आधार पर परियोजना की समकालीन योजना पद्धति और महामारी के बाद नई सामान्य स्थिति को ध्यान में रखते हुए कि गई है। इसके अतिरिक्त,  निवेशकों को पहले प्रस्तावक लाभ, उच्च रिटर्न की संभावना, निवेश की सुरक्षा आदि के रूप में विशिष्ट मूल्य प्रस्तावों पर विशेष जोर दिया गया है।

 


मुख्यमंत्री ने रियल एस्टेट कंपनियों के साथ चर्चा की
प्रवक्ता ने बताया कि गोलमेज सम्मेलन के बाद मुख्यमंत्री ने रियल एस्टेट कंपनियों के साथ एक-एक करके चर्चा की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के साथ उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला, मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव डी एस ढेसी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव व एच.एस.आई.आई.डी.सी. के अध्यक्ष वी. उमाशंकर और नगर एवं ग्राम आयोजना विभाग के निदेशक के.एम. पांडुरंग उपस्थित रहे। रियल एस्टेट कंपनी के प्रतिनिधियों में गोदरेज रियल्टी से मोहित मल्होत्रा और इश्तियाक अमजद, ओबेरॉय रियल्टी से विकास ओबेरॉय और ङ्क्षचतन सांघवी, फीनिक्स मिल्स लिमिटेड से रश्मि सेन और पवन काकुमनु, टाटा रियल्टी से संजय दत्त और तरुण मेहरोत्रा, अदानी रियल्टी से श्रवण गोविल और राजेश जैन, एन.ए.आर.ई.डी.सी.ओ. से राजन बंदेलकर, सोभा से जगदीश नांजिनेनी, अजमेरा रियल्टी से धवल अजमेरा और सी.आर.ई.डी.ए.आई. से बोमन ईरानी शामिल थे। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Ajay Chandigarh

Related News

Recommended News