लोगों और अपनों की सुरक्षा, दोनों में पंजाब पुलिस आगे

2021-02-23T21:06:19.007

चंडीगढ़, (रमनजीत सिंह): मार्च माह दौरान देशभर में लॉकडाऊन के साथ ही पंजाब ने कफ्र्यू की घोषणा की थी। अचानक लगे कफ्र्यू से लोगों में कौतूहल मच गया था। कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए कई परेशानियों से जूझते हुए पंजाब पुलिस के सैकड़ों मुलाजिम और अधिकारी कोरोना संक्रमण की चपेट में भी आए और कई ड्यूटी दौरान ‘शहीद’ भी हुए। कोरोना काल में लोगों की सेवा, फिर चाहे राशन-खाना बांटने की रही हो या फिर गंतव्य या परिवारों तक पहुंचाने की, पंजाब पुलिस सामाजिक संस्थाओं के साथ मिलकर आगे रही। अब कोरोना वैक्सीन की उपलब्धता के साथ ही स्वास्थ्य विभाग के बाद फ्रंटलाइन वॉरियर्स में पुलिस फोर्स को भी शामिल किया गया है। वैक्सीन लगवाने में भी पंजाब पुलिस तेजी के साथ कदम बढ़ाते हुए आगे बढ़ रही है। 

 


‘वैक्सीन लगवाने वालों की संख्या 26 हजार के करीब’
वैक्सीन शुरू होने के तीन सप्ताह के भीतर ही वैक्सीन का टीका लगवा चुके पंजाब पुलिस के अधिकारियों और कर्मचारियों की संख्या 26 हजार के आंकड़े को छूने लगी है। फोर्स की कुल संख्या 82733 है जिसके मुताबिक अब तक 31 फीसदी टीका लगवा चुकी है। कुल संख्या के लिहाज से यह अन्य फ्रंटलाइन वर्कर्स के विभागों के मुकाबले काफी तसल्लीबख्श है। फ्रंटलाइन वॉरियर्स की वैक्सीनेशन पूरी होने के बाद अन्य स्टाफ को भी वैक्सीनेट किया जाना है।

उम्मीद की जा रही है कि मार्च माह के दौरान लक्ष्य हासिल कर लिया जाएगा। पंजाब पुलिस को टीका लगाने का काम 2 फरवरी से शुरू किया गया था और मात्र 3 सप्ताह दौरान ही पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों का आंकड़ा 25598 (19 फरवरी) तक पहुंच गया है। पंजाब पुलिस के विभिन्न जिलों और यूनिटों में कुल फोर्स संख्या की फीसद के लिहाज से स्पैशल प्रोटैक्शन यूनिट 96 फीसदी वैक्सीनेशन के साथ पहले नंबर पर है, जबकि दूसरे नंबर पर जिला पुलिस मानसा 66 फीसदी के साथ है।

तीसरे नंबर पर विजीलैंस ब्यूरो है। इसी तरह सबसे कम संख्या में टीका लगवाने वालों में आखिरी तीन पायदानों पर सैंट्रल पुलिस ऑफिस (पुलिस हैडक्वार्टर), जालंधर देहाती जिला पुलिस और बङ्क्षठडा जिला पुलिस की मौजूदगी है। 


News Editor

Ajesh K Dharwal

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News