मिनी कोविड सैंटरों को किसी भी समय बंद कर सकते हैं संगठन

2021-06-12T00:16:37.423

चंडीगढ़, (राजिंद्र शर्मा): शहर में कोरोना के केस कम होते ही यू.टी. प्रशासन की तरफ से मिनी कोविड केयर सैंटरों के संबंध में आदेश जारी कर दिए गए हैं। प्रशासन ने शुक्रवार को यह स्पष्ट कर दिया कि 30 जून तक सभी को सैंटर चलाने की मंजूरी दी गई है। हालांकि अगर कोई संचालक इससे पहले भी सैंटर को स्वेच्छा से बंद करना चाहता है, तो सभी मरीजों के घर जाने के बाद या जो मरीज भर्ती हैं उन्हें किसी दूसरे सैंटर में भेजने के बाद उसे बंद कर सकता है।

 


एक सैंटर बंद हो चुका 
कोरोना की दूसरी लहर के बाद अब ये राहत के संकेत हैं। अस्पतालों में बैड उपलब्ध न होने के बाद शहर में सात मिनी कोविड केयर सैंटर शुरू किए गए थे, लेकिन अब स्थिति बेहतर हुई है। मरीज नहीं होने की वजह से सैक्टर-47 का मिनी कोविड केयर सैंटर बंद हो चुका है, जबकि किसी सैंटर में 4, किसी में 8 तो किसी में एक भी मरीज अब भर्ती नहीं है। अब शहर में छह मिनी कोविड केयर सैंटर बचे हैं।


 शहर में मिनी कोविड केयर सेंटर के प्रभारी यशपाल गर्ग ने बताया कि प्रशासन अगले कुछ दिन में सैंटरों को लेकर समीक्षा करेगा। इसके बाद इन्हें आगे भी अपनी सेवाएं जारी रखने की मंजूरी दी जा सकती है। इसके अलावा शहर के सभी सैंटरों के संचालकों ने यशपाल गर्ग से मुलाकात की और सैंटरों के भविष्य को लेकर चर्चा की। बैठक में एक ऑक्सीजन और कंसंट्रेटर बैंक की सेवा शुरू करने पर भी चर्चा की गई, जिसे सभी संचालकों द्वारा मिलकर एक साथ चलाया जाएगा। बैठक में संचालकों ने इस बात पर जोर दिया कि सभी सैंटरों को बनाने में काफी पैसा और मेहनत लगी है, इसलिए अभी इन्हें पूरी तरह से हटाने की बजाए इन्हें भविष्य के लिए तैयार रखा जाए। अधिकारी भी इस बात पर सहमत नजर आए। 
 

यह है सैंटरों की स्थिति : 
स्थान                                               कुल बेड                मरीज भर्ती

वर्किंग वुमेन हॉस्टल, सैक्टर-23          50                        28
इंदिरा हॉलीडे होम, सैक्टर-24              47                        0
स्पोट्र्स कॉम्पलैक्स, सैक्टर-34           50                        4
श्री अरबिंदो स्कूल, सैक्टर-27             25                         8
जी.एम.एस.एस.एस., सैक्टर-8           50                         17
स्पोट्र्स कॉम्पलैक्स, सैक्टर-43          50                         10


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

ashwani

Recommended News