पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान हुए जिला अदालत में पेश

punjabkesari.in Saturday, Aug 06, 2022 - 07:00 PM (IST)

चंडीगढ़,(सुशील राज):पंजाब के तत्कालीन मुख्यमंत्री कैप्टन अमिन्दर सिंह की कोठी के घेराव के दौरान दंगा करने, हमला करने, पुलिस की ड्यूटी में बाधा पहुंचाने और सरकारी आदेशों की उल्लंघना करने के मामले में पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान शनिवार को सैक्टर-43 जिला अदालत में पेश हुए। सी.जे.एम. डॉ. अमरिन्दर सिंह की अदालत में भगवंत मान समेत मामले में आधा दर्जन से अधिक विधायकों की तरफ से पैरवी करने के लिए पंजाब के पूर्व एडवोकेट जनरल सीनियर एडवोकेट अनमोल रतन सिंह सिद्धू पहुंचे हुए थे। उन्होंने बताया कि आज कोर्ट से इनकी नियमित जमानत करवा दी गई है। उन्हें मामले में चार्जशीट की कॉपी सौंपी गई। मामले की अगली सुनवाई 30 सितंबर को होगी।

 

 

दायर मामला 10 जनवरी 2020 का है।
पंजाब में बिजली के मुद्दे पर हुआ था प्रदर्शन जनवरी 2020 में पंजाब में बिजली के मुद्दे पर आम आदमी पार्टी ने तत्कालीन कांग्रेस सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था। सैंकड़ों की संख्या में आप कार्यकत्र्ताओं ने चंडीगढ़ में प्रदर्शन किया था। पुलिस ने आप नेताओं समेत कई अज्ञात कार्यकर्ताओं के खिलाफ केस दर्ज किया था। भगवंत मान समेत अन्यों पर पुलिस ने दंगा करने, हमला करने, पुलिस की ड्यूटी में बाधा पहुंचाने और सरकारी आदेशों की उल्लंघना करने जैसी धाराओं में केस दर्ज किया था।

 


जानकारी के मुताबिक 800 के लगभग अज्ञात कार्यकत्र्ताओं पर भी यह केस दर्ज हुआ था। जब पुलिस ने यह केस दर्ज किया था तब मान संगरूर से सांसद थे और पंजाब यूनिट के चीफ थे। इस प्रदर्शन से कानून व्यवस्था पर भी सवाल खड़े हुए थे। आप नेताओं और कार्यकत्र्ताओं ने पंजाब के तत्कालीन मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की कोठी का घेराव करना था। आप कार्यकत्र्ताओं ने पुलिस बैरिकेडिंग को फांदने की कोशिश भी की थी। इन पर वाटर कैनन का इस्तेमाल किया गया था। पिछले वर्ष दायर की गई थी

 

 

चार्जशीट पिछले वर्ष सितंबर में पुलिस ने सी.जे.एम. कोर्ट में मान समेत अन्यों के खिलाफ चार्जशीट दायर की थी। इनमें 7 विधायक भी थे। कुल 10 आप नेताओं के खिलाफ चार्जशीट दायर की गई थी। एम.एल.ए. हॉस्टल, सैक्टर-4 के पास 10 जनवरी, 2020 को यह प्रदर्शन हुआ था। प्रदर्शन में भगवंत मान, अमन अरोड़ा समेत हरपाल सिंह चीमा, बलजिंदर कौर, मीत हेयर, कुलतार सिंह सांधवा, मंजीत सिंह बिलासपुर, बलदेव सिंह आदि नेता शामिल थे। पुलिस केस के मुताबिक आप कार्यकत्र्ताओं ने पत्थर भी मारे थे। इसमें पुलिस के आधा दर्जन के लगभग कर्मी घायल हो गए थे। वहीं आप का दावा था कि दो दर्जन से ज्यादा आप कार्यकर्ता भी घायल हुए थे। इनमें विधायक अमन अरोड़ा भी शामिल थे।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Ajay Chandigarh

Related News

Recommended News