गिरफ्तार आई.ए.एस. पोपली के बेटे की गोली लगने से मौत

punjabkesari.in Saturday, Jun 25, 2022 - 07:04 PM (IST)

चंडीगढ़,(सुशील राज): भ्रष्टाचार मामले में गिरफ्तार पंजाब के आई.ए.एस. संजय पोपली के 27 वर्षीय बेटे की सैक्टर-11 स्थित कोठी में सिर पर गोली लगने से संदिग्ध हालत में मौत हो गई। वारदात के समय पंजाब विजीलैंस पोपली को घर पर जांच के लिए लेकर आई थी। विजीलैंस टीम ग्राऊंड फ्लोर पर थी। गोली चलने की आवाज सुनकर विजीलैंस की टीम और परिजन पहली मंजिल पर गए। वहां कमरे में कार्तिक खून से लथपथ पड़ा था। परिजनों ने मामले की सूचना पुलिस को दी। सैक्टर-11 थाना पुलिस मौके पर पहुंची और खून से लथपथ कार्तिक को सैक्टर-16 जनरल अस्पताल लेकर गई। जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। डाक्टरों ने पुलिस को बताया कि कार्तिक को गोली दाईं तरफ सिर में लगी है। गोली लगने के कारण कार्तिक की मौत हुई है। 

 


जांच में सामने आया कि कार्तिक ने गोली खुद पिता की पिस्टल 7.62 से चलाई है, जो कि लाइसैंसी बताई जा रही है। फॉरैंसिक मोबाइल टीम ने मौके पर पहुंचकर कमरे से खून और अन्य सैंपल लिए। वहीं, आई.ए.एस. पोपली की पत्नी ने विजीलैंस टीम पर बेटे पर गोली मारने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि विजीलैंस टीम के डी.एस.पी. अजय सिंह समेत अन्य जवानों ने बेटे को गोली मारी है। पति के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिलने पर विजीलैंस टीम घर पर आकर संयज पोपली पर खाली पेज पर साइन करने के लिए दवाब बना रही थी। थाना पुलिस की प्राथमिक जांच में कार्तिक द्वारा सुसाइड करना पाया गया है। कार्तिक लॉ की पढ़ाई पुरी कर चुका था और ज्यूडिशयरी की तैयारी कर रहा था।

 


जानकारी मिलते ही एस.एस.पी. कुलदीप सिंह चहल, डी.एस.पी. गुरमुख सिंह और सैक्टर-11 थाना प्रभारी जसबीर सिंह पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे। गोली चलने के समय विजीलैंस की टीम भ्रष्टाचार मामले में गिरफ्तार आई.ए.एस. संजय पोपली को लेकर कोठी के ग्राऊंड फ्लोर पर मौजूद थी। टीम आरोपी आई.ए.एस. से रिश्वत के बारे में पूछताछ कर रही थी।

 


उनकी पत्नी ने रोते-रोते कहा कि उन्हें मानसिक रूप से परेशान किया जा रहा था। टीम उन पर झूठे बयान देने के लिए दबाव डाल रही थी। टीम घर आई और छानबीन की गई। वह कोई रिकवरी करने के लिए आई थी। मृतक कार्तिक की मां ने कहा कि जब ऊपर गई तो विजीलैंस की टीम ने बेटे पर पिस्टल तान रखी थी। इसके बाद उन्हें नीचे भेज दिया गया। इसके बाद उन्होंने गोली की आवाज सुनी। बाद में पता चला कि गोली उनके बेटे को लगी है। उन्हें झूठे केस में फंसाया गया है। पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान वाहवाही के लिए छोटे मामले को भी बढ़ा-चढ़ाकर पेश कर रहे हैं।
पारिवारिक मित्र एडवोकेट मतविंद्र सिंह ने कहा कि मोहाली कोर्ट में पेशी की बजाय संजय पोपली को विजीलैंस घर लाई। वह मोहाली में थे और उन्हें परिजनों का फोन आया कि विजीलैंस ने उनके बेटे को गोली मार दी है।

 

 

विजीलैंस टीम को देखकर सीधा कमरे में जाकर मारी गोली 
विजीलैंस टीम पोपली को लेकर सैक्टर-11 स्थित कोठी आई थी। इस दौरान कार्तिक और विजीलैंस टीम के बीच बहस हो गई। आरोप था कि विजीलैंस टीम गिरफ्तार आई.ए.एस. संजय पोपली पर परिजनों पर दवाब डालकर खाली पेज पर साइन करवाना चाहती थी। बहस के बाद कार्तिक पहली मंजिल स्थित कमरे पर गया और चंद मिनट बाद ही गोली चलने की आवाज आई। ऊपर जाकर देखा तो कार्तिक लहूलुहान हालत में पड़ा था और उसके पास पिस्टल पड़ा हुआ था। 

 

आई.ए.एस. के घर मिले थे अवैध कारतूस 
विजीलैंस ने रिश्वत मामले में आई.ए.एस. संयज पोपली को गिरफ्तार करने के बाद उसकी कोठी (520) में तलाशी ली थी। इस दौरान कोठी के अंदर से 73 कारतूस मिले, जिनमें 7.65 के 41, .32 बोर के 2 और .22 बोर के 30 कारतूस थे। पंजाब विजीलैंस ने पोपली पर सैक्टर-11 पुलिस स्टेशन में आम्र्स एक्ट के तहत मामला दर्ज करवाया था। 
 

 

गिरफ्तार पोपली के घर से मिला साढ़े 12 किलो सोना
सैक्टर-11 स्थित कोठी नं. 520 से विजीलैंस टीम को शनिवार को साढ़े 12 किलो सोना बरामद हुआ। पोपली के घर से सोने की एक किलो वाली 9 ईंटें, 3.16 किलो के 49 बिस्कुट और 356 ग्राम के 12 सिक्के मिले हैं। इसके अलावा चांदी की एक-एक किलो की 3 ईंटें और 10-10 ग्राम के सिक्के भी बरामद हुए हैं। इसके साथ चार आईफोन और साढ़े तीन लाख रुपए नकद भी मिला है। विजीलैंस को सोना-चांदी और नकदी कोठी के स्टोर में रखे काले रंग के लैदर बैग में मिली है। इस बरामदगी के दौरान ही पोपली के बेटे कार्तिक ने खुद को गोली मारी थी।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Ajay Chandigarh

Related News

Recommended News