See More

शेयर बाजार में जबरदस्त तेजी, निवेशकों को 6.97 लाख करोड़ रुपए का फायदा

2020-04-07T14:45:02.613

बिजनेस डेस्कः अमेरिका के बाद एशियाई बाजारों में आई जोरदार तेजी के चलते घरेलू शेयर बाजार दिन की नई ऊंचाई पर पहुंच गए है। BSE का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 2150 अंक बढ़कर 30 हजार के बेहद नज़दीक है। वहीं, NSE का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 621 अंक की जोरदार बढ़त के साथ 8.705 के स्तर पर पहुंच गया है। आज के कारोबार में चौतरफा तेजी देखने को मिल रही है। इस तेजी में निवेशकों को 6.97 लाख करोड़ रुपए का फायदा हुआ। बैंकिंग, मेटल, ऑटो और आईटी शेयरों में सबसे ज्यादा तेजी देखने को मिल रही है। रियल्टी, एफएमसीजी और फार्मा शेयरों में भी अच्छी खरीदारी देखने को मिल रही है। 

क्यों आई शेयर बाजार में तेजी
अमेरिकी शेयर बाज़ार में भी उछाल

कोरोना के नए मामलों की रफ्तार घटने से अमेरिकी बाजारों में 7 फीसदी से ज्यादा का उछाल देखने को मिला है। कल Dow 1600 अंक से ज्यादा चढ़कर बंद हुआ। कल के कारोबार में S&P 500, Nasdaq भी फीसदी से ज्यादा चढ़े। एशियाई बाजारों में भी मजूबती देखने को मिल रही है।

जापान में राहत पैकेज का ऐलान
कोरोना से निपटने के लिए जापान में बड़े राहत पैकेज का ऐलान किया गया है। जापान ने 75 लाख करोड़ रुपए (1 लाख करोड़ डॉलर) के राहत पैकेज की घोषणा की है। उधर कोरोना का इलाज ढूंढने की कोशिश भी जारी है। एक रिसर्च से पता चला है कि एंटी पैरासिटिक दवा का कोरोना इलाज में इस्तेमाल संभव है। लैब परीक्षण में एंटी पैरासिटिक दवा कोरोना के इलाज में सफल पाई गई है। ऑस्ट्रेलियाई वैज्ञानिक का दावा है कि एंटी पैरासिटिक दवा 48 घंटे में वायरस खत्म कर सकती है।

कच्चे तेल की कीमतों में तेजी से सहारा
क्रूड प्रोडक्शन कट पर सहमति बनने के संकेत मिल रहे हैं। इस पर रूस और सऊदी अरब के बीच करार संभव है। एसकोर्ट सिक्योरिटी के रिसर्च हेड आसिफ इकबाल का कहना है कि कच्चे तेल की कीमतों में तेजी से कई देशों की अर्थव्यवस्था को सहारा मिलता है। वहीं, कीमतों में बड़ी गिरावट से ज्यादा फायदा नहीं बल्कि नुकसान ज्यादा है क्योंकि भारत में रिफाइनिंग कंपनियों के साथ-साथ कच्चे तेल का प्रोडक्शन करने वाली कंपनी भी है।


jyoti choudhary

Related News