दूरसंचार कंपनियों पर ट्राई ने कसी नकेल, कहा- ग्राहकों को दें मोबाइल टैरिफ की साफ-साफ जानकारी

2020-09-19T11:00:53.09

बिजनेस डेस्कः भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने दूरसंचार कंपनियों के लिए टैरिफ प्लान के विज्ञापन और प्रकाशन से जुड़े नए दिशानिर्देश शुक्रवार को जारी किए। इसका मकसद उपभोक्ताओं के लिए मोबाइल प्लानों को लेकर पारदर्शिता लाना और उन्हें सोच-समझकर निर्णय लेने में मदद करना है। 

यह भी पढ़ें-  ट्रेन में सफर करने वालों को झटका देने की तैयारी में रेलवे, एयरपोर्ट की तरह रेलवे वसूलेगा यूजर चार्ज 

PunjabKesari

यह भी पढ़ें-  BS4 डीजल वाहनों को लेकर बड़ी खुशखबरी, SC ने दी रजिस्ट्रेशन को मंजूरी

ट्राई ने अपने दिशानिर्देशों में कहा, ‘‘यह देखा गया है कि दूरसंचार कंपनियों की मौजूदा प्रक्रियाएं उतनी पारदर्शी नहीं है, जितना उन्हें होना चाहिए। कुछ कंपनियां प्राय: अतिरिक्त नियम और शर्तों का प्रकाशन नहीं करती हैं। साथ ही कई बार विभिन्न प्लान के लिए एक ही वेब पेज पर सारे नियम शर्तें लिख देती हैं। ऐसे में यह जानकारी समझने में या तो ग्राहक सक्षम नहीं होते या जानकारियां कहीं खो जाती हैं।'' 

PunjabKesari

इस पूरी प्रक्रिया की नियामकीय अनिवार्यताओं में आमूलचूल परिवर्तन करते हुए ट्राई ने कहा कि कंपनियों को 15 दिन के भीतर अपने सेवा क्षेत्र में पोस्टपेड और प्रीपेड के हर टैरिफ प्लान की पूरी जानकारी, किसी ऑफर की संपूर्ण जानकारी ग्राहकों, ग्राहक देखभाल केंद्रों, बिक्री केंद्रों, खुदरा केंद्रों, वेबसाइटों और ऐप पर देनी होगी। इसके तहत कंपनियों को प्लान के तहत कितने मिनट की कॉल, कितने एसएमएस, डेटा और उनके शुल्क, सीमा के बाद लगने वाले शुल्क और सीमा के बाद डेटा की स्पीड एवं शुल्क की पूरी जानकारी उपलब्ध करानी होगी। 

PunjabKesari

यह भी पढ़ें-  बेरोजगारी का बढ़ता संकट: मई-अगस्त में गई 66 लाख की नौकरियां

इसके अलावा कंपनियों को पोस्टपेड ग्राहकों को उनके कनेक्शन शुल्क, जमा, अतिरिक्त किराए इत्यादि की जानकारी भी देनी होगी। विशेष टैरिफ वाउचर्स, कॉम्बो प्लान या एड-ऑन प्लान की जानकारी भी पारदर्शी तरीके से देनी होगी। 


jyoti choudhary

Recommended News