टाटा स्टील ने लिबर्टी स्टील को अदालत में घसीटा, भुगतान न करने का आरोप

2021-04-22T18:15:23.833

लंदनः भारत की प्रमुख इस्पात कंपनी टाटा स्टील ने ब्रिटेन में ब्रिटिश भारतीय संजीव गुप्ता की अगुवाई वाले जीएफजी एलायंस के खिलाफ वाणिज्यिक अदालत में मामला दर्ज किया है। कंपनी ने लिबर्टी स्टील नाम से कंपनी का संचालन करने वाली जीएफजी एलायंस पर 2017 में अधिग्रहण से जुड़े मामले में भुगतान से चूक करने का आरोप लगाया है। 

यह भी पढ़ें- FB और वॉट्सऐप को दिल्ली हाई कोर्ट से झटका, प्राइवेसी पॉलिसी पर राहत नहीं

लिबर्टी स्टील ने टाटा की विशेष प्रकार के इस्पात बनाने वाले कारोबार का अधिग्रहण किया था। इस कारोबार में योर्कशायर, लैंकाशायर और वेस्ट मिडलैंड्स में 1,700 कर्मचारी काम करते थे। टाटा स्टील ने करीब 10 करोड़ डॉलर के सौदे के मई 2017 में पूरा होने की घोषणा की थी। एक समाचार पत्र की रिपोर्ट के अनुसार अब यह बात सामने आई है कि इस सौदे में भुगतान नहीं किया गया। इसको देखते हुए टाटा ने लिबर्टी स्पेशलिटी स्टील, लिबर्टी हाउस ग्रुप पीटीई और स्पेशलिटी स्टील यूके (सभी जीएफजी एलायंस से संबद्ध) के खिलाफ अदालती कार्यवाही शुरू की है। 

यह भी पढ़ें- S&P का अनुमानः चालू वित्त वर्ष में 11% रहेगी वृद्धि दर, पर लॉकडाउन का प्रभाव पड़ेगा

टाटा स्टील के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘‘चूंकि यह मामला अभी चल रहा है, हम कोई टिप्पणी नहीं कर सकते।'' जीएफजी एलायंस ने मुकदमे के बारे में कुछ भी कहने से मना कर दिया। एलायंस को हमेशा समर्थन देने वाली ग्रीनसील कैपिटल के धाराशायी होने के बाद से वह काफी दबाव में है। हालांकि उसने कर्ज को लेकर जारी प्रयासों के बारे में जानकारी दी। जीएफजी एलायंस के प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हमारे ज्यादातर बड़े कारोबार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। कोविड-19 के कारण हमारे कुछ कारोबार पर प्रतिकूल असर पड़ा है। ग्रीनसील कैपिटल के धाराशायी होने से हमारे यूके कारोबार को लेकर कार्यशील पूंजी के समर्थन पर असर पड़ा है। हम नए वित्त पोषण के लिए प्रयास कर रहे हैं।'' 

यह भी पढ़ें- कारोना संक्रमण की नई लहर मई मध्य तक पहुंच सकती है अपने चरम पर: CEA


Content Writer

jyoti choudhary

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static