टिकाऊ उपभोक्ता, इलेक्ट्रॉनिक्स का बाजार 2025 तक दोगुना बढ़कर 1.48 लाख करोड़ रुपए होने की संभावना

11/22/2019 5:13:26 PM

नई दिल्लीः टिकाऊ उपभोक्ता और इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पाद उद्योग का बाजार 2024-25 तक दोगुना बढ़कर 1.48 लाख करोड़ रुपए पर पहुंचने की संभावना है। इलेक्ट्रॉनिक्स एवं टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद बनाने वाली कंपनियों के संगठन सीमा और फ्रॉस्ट एंड सुलिवन के एक संयुक्त अध्ययन में यह बात सामने आई है।

रिपोर्ट के अनुसार ग्रामीण मांग बढ़ने, उत्पादों को बदलने के क्रम में कमी आने, खुदरा बाजार के बढ़ने, ब्रांड का विकल्प बढ़ने और एक ही उत्पाद के विभिन्न मूल्यवर्ग में उपलब्ध होने से उद्योग को बढ़त मिलने की उम्मीद है। रिपोर्ट में कहा गया है कि 2018-19 में इस उद्योग का कुल आकार 76,400 करोड़ रुपए रहा। इसमें घरेलू विनिर्माण की हिस्सेदारी 32,200 करोड़ रुपए रही।

अध्ययन के लिए एयर कंडीशनर, रेफ्रिजरेटर, वाशिंग मशीन, टेलीविजन और ऑडियो श्रेणी को आधार बनाया गया है। रिपोर्ट के अनुसार 2018-19 में इन पांचों श्रेणियों का बाजार आकार 76,400 करोड़ रुपए रहा है। इसके 2024-24 तक सालाना 11.7 फीसदी की दर से वृद्धि करने का अनुमान है। 2018-19 में इसमें घरेलू विनिर्माण की हिस्सेदारी 34 फीसदी रही है जो 2024-25 तक बढ़कर 54 फीसदी होने की उम्मीद है। रिपोर्ट में कहा गया है कि 2024-25 तक एयर कंडीशनर का बाजार बढ़कर 165 लाख इकाई हो जाएगा जो 2018-19 में 65 लाख इकाई रहा है। जबकि रेफ्रिजरेटर का बाजार बढ़कर 275 लाख इकाई होने की उम्मीद है जो 2018-19 में 145 लाख इकाई रहा। इसी तरह टीवी का बाजार बढ़कर 284 लाख और वाशिंग मशीन का 126 लाख इकाई होने की उम्मीद है जो 2018-19 में क्रमश: 175 लाख और 70 लाख इकाई रहा है। 
 


Supreet Kaur

Related News