थोक महंगाई के मोर्चे पर लगा झटका, अप्रैल में WPI 15.08% पर आई जो मार्च में 14.55% थी

punjabkesari.in Tuesday, May 17, 2022 - 12:44 PM (IST)

बिजनेस डेस्कः वाणिज्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक अप्रैल में सरकार को थोक महंगाई के मोर्चे पर झटका लगा है। अप्रैल महीने में थोक महंगाई मार्च महीने की 14.55 फीसदी से बढ़कर 15.08 फीसदी पर आ गई है। बता दें कि थोक महंगाई दर अनुमान से भी ज्यादा रही है। 

महीने दर महीने आधार पर अप्रैल महीने में खाने-पीने की चीजों की थोक महंगाई दर 8.71 फीसदी से बढ़कर 8.88 फीसदी पर आ गई है। वहीं प्राइमरी आर्टिकल्स की थोक महंगाई दर मार्च के 15.54 फीसदी से बढ़कर 15.45 फीसदी पर आ गई है। जबकि ईंधन और बिजली की थोक महंगाई दर मार्च के 34.52 फीसदी से बढ़कर 38.66 फीसदी पर आ गई है। महीने दर महीने आधार पर अप्रैल में WPI कोर महंगाई 10.9 फीसदी से बढ़कर 11 फीसदी पर आ गई है।

अप्रैल महीने में बनी बनाई वस्तुओं (मैन्यूफैक्चरर्ड प्रोडक्ट्स) की थोक महंगाई दर मार्च के 10.71 फीसदी से बढ़कर 10.85 फीसदी पर आ गई है। हालांकि आलू की थोक महंगाई दर में गिरावट आई है। महीने दर महीने आधार पर आलू की थोक महंगाई दर मार्च के 24.62 फीसदी से घटकर 19.84 फीसदी पर रही है।

अप्रैल में प्याज महंगे होते नजर आए हैं। अप्रैल महीने में प्याज की महंगाई दर मार्च के -9.33 फीसदी से बढ़कर -4.02 फीसदी पर आ गई है। जबकि अंडे, मास और मछली की महंगाई दर 9.42 फीसदी से घटकर 4.50 फीसदी पर आ गई है। महीने दर महीने आधार पर अप्रैल महीने में सब्जियों की थोक महंगाई दर में बढ़ोतरी देखने को मिली है और यह मार्च के 19.88 फीसदी से बढ़कर 23.24 फीसदी पर आ गया है।

अप्रैल महीने में ऑल कमोडिटी इंडेक्स में महीने दर महीने आधार पर 2.08 फीसदी की, प्राइमरी आर्टिकल इंडेक्स में 2.70 फीसदी की, फ्यूल एंड पावर इंडेक्स में 2.79 फीसदी की, मैन्यूफैक्चर्ड प्रोडक्ट्स इंडेक्स में 1.69 फीसदी और फूड इंडेक्स में 3.35 फीसदी की बढ़त देखने को मिली है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

jyoti choudhary

Related News

Recommended News