अब राज्यों को 2026 तक मिलेगा GST कंपन्सेशन सेस, पढ़ें बिजनेस की 10 बड़ी खबरें

punjabkesari.in Sunday, Jun 26, 2022 - 01:13 AM (IST)

बिजनेस डेस्कः सरकार ने जीएसटी क्षतिपूर्ति उपकर लगाने की समयसीमा करीब चार साल के लिए बढ़ाकर 31 मार्च 2026 तक कर दी है। वित्त मंत्रालय द्वारा अधिसूचित माल एवं सेवा कर (उपकर की अवधि और संग्रह की अवधि) नियम, 2022 के अनुसार एक जुलाई 2022 से 31 मार्च 2026 तक क्षतिपूर्ति उपकर का आरोपण जारी रहेगा। उपकर लगाने की समयसीमा 30 जून को ही समाप्त होने वाली थी लेकिन केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता वाली जीएसटी परिषद ने इसकी समयसीमा को मार्च 2026 तक विस्तार देने का फैसला किया। बीते दो वित्त वर्षों में लिए गए कर्जों के पुनर्भुगतान के लिए इस समयसीमा को बढ़ाने का फैसला किया गया है।

30 जून तक निपटा लें आधार-पैन लिंक और डीमैट अकाउंट की KYC
इस महीने की आखिरी तारीख, यानी 30 जून तक आपको कई जरूरी काम निपटाने हैं। इस महीने आपको आधार-पैन लिंक करने और डीमैट अकाउंट की KYC न करने पर परेशान होना पड़ सकता है। हम आपको ऐसे ही 3 कामों के बारे में बता रहे हैं जो आपको 30 जून तक निपटाने हैं।

IMF ने 2022 के लिए अमेरिकी ग्रोथ रेट का अनुमान घटाकर 2.9% किया
इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड (IMF) ने अमेरिकी आर्थिक विकास दर यानी GDP ग्रोथ के अनुमान को घटाकर 2.9% कर दिया है। इसका बड़ा कारण अमेरिकी केंद्रीय बैंक की आक्रामक दरों के बाद डिमांड में आई कमी है। IMF ने साथ में यह भी कहा है कि अमेरिका के मंदी से बचने के आसार अब बहुत कम होते जा रहे हैं। इससे पहले अप्रैल में IMF ने अप्रैल में अनुमान लगाया था कि 2022 में अमेरिका की GDP ग्रोथ 3.7% रहेगी।

फोर्ड ने तमिलनाडु कारखाने में जुलाई अंत तक उत्पादन बढ़ाया
प्रमुख वाहन कंपनी फोर्ड ने अपने उत्पादन कार्यक्रम को जुलाई के अंत तक बढ़ा दिया है। यह पहले जून के अंत तक ही था। उत्पादन समयसीमा बढ़ाने का कारण कंपनी उन कर्मचारियों के साथ चर्चा जारी रखे हुए है जो कंपनी छोड़ने के एवज में दिए जाने वाले पैकेज का विरोध कर रहे हैं। कंपनी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। शहर के बाहरी इलाके में स्थित मराईमलाई नगर में स्थित कारखाने में प्रबंधन द्वारा दिए गए मुआवजे को लेकर 30 मई से श्रमिक विरोध कर रहे हैं।

रूसी हीरे पर पाबंदी से 25 हजार कारीगर बेरोजगार
यूक्रेन युद्ध के चलते पश्चिमी देशों द्वारा रूस पर लगाए गए बैन से गुजरात की हीरा इंडस्ट्री मुश्किल में पड़ गई है। रूसी हीरे का इंपोर्ट रुकने से देश में रफ डायमंड का इंपोर्ट 29% गिर गया है। नतीजतन, गुजरात के 25 हजार हीरा कारीगर बेरोजगार हो गए हैं। काम कम होने से वीकली हॉलिडे एक से बढ़ाकर दो और काम के घंटे 8 से घटाकर 6 कर दिए गए हैं।

श्रीलंका में 10000 से ज्यादा डॉलर रखने पर लगी पाबंदी
विदेशी मुद्रा संकट से जूझ रही श्रीलंका सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है। सरकार ने किसी व्यक्ति के अपने पास विदेशी मुद्रा रखने की अधिकतम सीमा को घटना दिया है। अब श्रीलंका में इंडिविजुअल्स अपने पास 10 हजार अमेरिकी डॉलर ही रख सकते हैं। पहले इंडिविजुअल्स के लिए विदेशी मुद्रा रखने की अधिकतम सीमा 15 हजार अमेरिकी डॉलर थी।

Zomato के बोर्ड ने Blinkit को खरीदने की दी मंजूरी, ₹4,447 करोड़ में हुई डील
ऑनलाइन खानपान उत्पाद आपूर्तिकर्ता जोमैटो 4,447.48 करोड़ रुपए में ब्लिंकइट कॉमर्स प्राइवेट लिमिटेड (पूर्व में ग्रोफर्स) का अधिग्रहण करेगी। जोमैटो ने शुक्रवार को शेयर बाजार को भेजी गई सूचना में कहा कि यह सौदा शेयरों की अदला-बदली व्यवस्था के तहत किया किया जाएगा। 

RBI ने ओवरसीज बैंक पर ठोका जुर्माना
सार्वजानिक क्षेत्र के इंडियन ओवरसीज बैंक को बड़ा झटका लगा है। दरअसल, भारतीय रिजर्व बैंक यानी आरबीआई ( ने बैंक पर 57.5 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। केंद्रीय बैंक ने शुक्रवार को बताया कि यह कार्रवाई कुछ मानदंडों तथा धोखाधड़ी से संबंधित नियमों का कंप्लायंस नहीं करने को लेकर की गई है।

नेटफिलिक्स ने की छंटनी
दुनिया में मंदी की आहट है। इस दौरान कई कंपनियां कर्मचारियों की छंटनी करते हुई देखी जा रही है।ऑनलाइन स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म नेटफ्लिक्स ने कर्मचारियों की छंटनी की है। नेटफ्लिक्स ने दूसरी बार कर्मचारियों को नौकरी से निकाला है। नेटफ्लिक्स ने कहा है कि उसने 300 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया है. यह उसकी वर्कफोर्स का 4 फीसदी है। एक दशक से अधिक समय में पहली बार स्ट्रीमिंग दिग्गज नेटफ्लिक्स के ग्राहकों को खोने के बाद लागत कम करने के उद्देश्य से कर्मचारियों में कटौती की है।

2000 का नोट हुआ मार्केट से आउट?
नोटबंदी के दौरान जब 500 और 1000 रुपये के नोट बंद हुए तो उसका स्थान लेने 2000 रुपये का नोट पेश किया गया था। लेकिन इतना महंगा नोट भारतीयों की जेब में ज्यादा दिन टिक नहीं पाया और अब नाम मात्र के प्रचलन में बचा है। स्थिति यह है कि मूल्यवान नोटों में 2000 के नोट की हिस्सेदारी 2 प्रतिशत से भी कम रह गई है।

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Yaspal

Related News

Recommended News