कोविड-19 के बाद की अर्थव्यवस्था के लिए पूर्वोत्तर भारत बेहद महत्वपूर्ण : जितेन्द्र सिंह

08/27/2020 11:06:16 AM

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने बुधवार को कहा कि कोविड-19 महामारी के बाद के भारत की अर्थव्यवस्था के लिए पूर्वोत्तर भारत बेहद महत्वपूर्ण है और इस क्षेत्र के कृषि उत्पाद देश की आर्थिक गति सुधारने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

पूर्वोत्तर क्षेत्रीय कृषि विपणन निगम लिमिटेड (एनईआरएएमएसी) के अधिकारियों, किसानों के समूहों और कृषि क्षेत्र के प्रतिनिधियों की एक ऑनलाइन बैठक को संबोधित करते हुए, सिंह ने कहा कि कोविड के बाद के दौर ने पूर्वोत्तर के लिए एक अनूठा अवसर प्रदान किया है क्योंकि अधिकांश अंशधारक और उद्योग घराने नयी संभावनाओं को तलाशने के लिए इस क्षेत्र की ओर ही देख रहे हैं। उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर क्षेत्र, भारत की कोविड के दौर के बाद की अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण है, तथा इस क्षेत्र में होने वाली खेती विशेष रूप से पूर्वोत्तर ही नहीं बल्कि पूरे देश के आर्थिक पुनरुत्थान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

केन्द्रीय पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्री (डोनर) सिंह ने कहा कि कृषि क्षेत्र पर जोर देने के साथ और पूर्वोत्तर के संसाधनों का अतीत में पूरी तरह उपयोग नहीं होने के कारण, और पूर्वोत्तर राज्यों में नए निवेशों और नए उद्यमों के लिए विशेष प्राथमिकता होने जा रही है। । सिंह ने कहा कि फल और कृषि उद्योग में कई प्रमुख कारोबारियों द्वारा देर से सही पर उनके मंत्रालय से संपर्क किया जा रहा है जो भारत के अन्य हिस्सों में पनप चुके हैं और अब पूर्वोत्तर में प्रवेश करने के इच्छुक हैं।

मंत्री ने कहा कि कई व्यापारिक घराने, पूर्वोत्तर क्षेत्र के विशाल कृषि संसाधनों का फायदा उठाने के लिए इस क्षेत्र की ओर देख रहे हैं और इस मौके को नहीं चूकना चाहिए। सिंह ने कहा कि कोविड बाद के दौर में एनईआरएएमएसी, विशष्ट उत्पादों की शिनाख्त कर उसकी ब्रांडिंग करते हुए पूरे भारत में इनकी बिक्री के करने के जरिये एक लाभदायक उद्यम बन सकता है। मंत्री ने एनईआरएएमएसी को एक सप्ताह के भीतर एक योजना का खाका तैयार करने को कहा।


 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

rajesh kumar

Recommended News