See More

Infosys के अमेरिका में फंसे 200 से अधिक कर्मचारी, चार्टर्ड विमान से भारत पहुंचा परिवार

2020-07-07T17:44:55.327

नई दिल्लीः देश दूसरी सबसे बड़ी आईटी सर्विसेस कंपनी इंफोसिस सैकड़ों भारतीय कर्मचारियों और उनके परिवारों को चार्टर्ड फ्लाइट्स के जरिए अमेरिका से वापस भारत ला रही है। इंफोसिस की चार्टर्ड फ्लाइट्स 200 भारतीय कर्मियों और उनके परिवारों को लेकर सैन फ्रांसिस्‍को से बेंगलुरु के लिए उड़ान भर चुकी हैं।

Coronavirus In India: Super-rich left stranded as private jet ...

कंपनी के रिटेल, सीपरजी व लॉजिस्टिक्‍स डिपार्टमेंट के एसोसिएट वाइस-प्रेसिडेंट समीरन गोसावी ने सोशल मीडिया पर बताया कि अमेरिका में कोविड-19 के बढ़ते मामलों के मद्देनजर सुरक्षा कारणों से इन सभी कर्मचारियों को भारत लाया जा रहा है। इंफोसिस ने भी पुष्टि की है कि कर्मचारियों और उनके परिवारों को भारत लाने के लिए फ्लाइट्स की व्‍यवस्‍था की गई है। इनमें H1-B वीजा पर क्‍लाइंट लोकेशन पर ऑन-साइट काम करने के लिए भेजे गए कर्मचारी हैं।

Infosys hires chartered flight to bring back over 200 employees ...

भारत लौटने वालों में अस्‍थायी तौर पर अमेरिकी की यात्रा करने वाले इंफोसिस के नियमित कर्मी भी शामिल हैं। इंफोसिस के लिए अमेरिका दुनिया का सबसे बड़ा बाजार है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मार्च 2020 में खत्‍म हुई तिमाही के दौरान कंपनी की कुल कमाई में 61.6 फीसदी हिस्‍सेदारी अमेरिकी बाजार की ही है। कुछ समय से कंपनी अमेरिका की अपनी यूनिट्स में स्‍थानीय लोगों की नियुक्ति पर जोर देना शुरू कर दिया था। इसके बाद भी वहां काफी भारतीय कर्मचारी H1-B वीजा पर काम कर रहे थे।

As coronavirus cases mount, flight attendants grow increasingly ...

दो साल में अमेरिका में 10 हजार स्‍थानीय कर्मियों की नियुक्ति की
इंफोसिस ने कहा कि पिछले 24 महीने में उसने 10,000 से ज्‍यादा अमेरिकी नागरिकों और स्‍थायी निवासियों की कंपनी में नियुक्ति की है। इंफोसिस के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर यूबी प्रवीण राव ने हाल में बताया था कि इससे इस समय अमेरिका में कंपनी के 60 फीसदी कर्मचारियों के सामने वीजा को लेकर कोई समस्‍या नहीं है। पिछले साल कंपनी ने एरीजोना में अपना नया डिजिटल डिलीवरी सेंटर भी शुरू किया था। इससे उसके अमेरिका में 6 ऐसे सेंटर हो गए थे।


jyoti choudhary

Related News