ई-वाहन पर तेजी दिखा रहे विनिर्माता, महिंद्रा इस साल पेश करेगी 3 ईवी

2020-09-07T16:47:23.477

नई दिल्लीः भले ही वाहन निर्माता कंपनियों के इंटरनल कम्बश्चन इंजन-संचालित वाहन कोविड-19 महामारी से बुरी तरह प्रभावित हो सकते हैं लेकिन इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) की दिशा में हो रहे सुधार की रफ्तार बाधित नहीं हुई है। वाहन उद्योग के अधिकारियों का कहना है कि मांग में आई तेजी से उत्साहित कई वाहन कंपनियां अपने निर्धारित निवेश के साथ आगे बढ़ रही हैं और उन्होंने नई पेशकशों की योजना बनाई है।

ईवी उद्योग में आएगी तेजी
टाटा मोटर्स में यात्री वाहन व्यवसाय इकाई के अध्यक्ष शैलेश चंद्रा कहते हैं कि ईवी में सालाना आधार पर तेजी आई है। यह वृद्घि मजबूत हो सकती है, क्योंकि महामारी की वजह से सार्वजनिक यातायात पर लगाई गई सख्ती की वजह से ये वाहन ज्यादा प्रभावित नहीं हुए हैं। चंद्रा ने कहा, 'वर्क फ्रॉम होम की वजह से कर्मचारी परिवहन खंड प्रभावित हुआ है और ई-मोबिलिटी सेवा कंपनियों को अपने मौजूदा वाहनों का इस्तेमाल करने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है।' उनका कहना है कि ईवी उद्योग में तेजी आएगी। 

कंपनी भारत में ईवी के लिए अपनी योजनाओं पर तेजी से आगे बढ़ रही है। मौजूदा समय में, टाटा मोटर्स ईवी पोर्टफोलियो में टिगोर ईवी के दो वर्जन- 140 किलोमीटर और 213 किलोमीटर रेंज- और 312 किलोमीटर रेंज के साथ नेक्सन ईवी शामिल हैं। ऑटो एक्सपो 2020 में प्रदर्शित हुई अल्ट्रोज ईवी उत्पादन के दौर से गुजर रही है।

महामारी से योजनाओं पर नहीं हुआ प्रभाव 
महिंद्रा इलेक्ट्रिक में मुख्य कार्याधिकारी महेश बाबू का कहना है कि ईवी स्पेस में प्रवेश करने वाली शुरुआती कंपनियों में से शामिल महिंद्रा ऐंड महिंद्रा (एमऐंडएम) भी अपनी योजनाओं के साथ आगे बढ़ रही है। ट्रियो ब्रांड के तहत ई-ऑटोरिक्शा की बिक्री करने वाली एमऐंडएम ईवी क्षेत्र में नई पेशकशों के साथ व्यस्त है। बाबू का कहना है, 'हालांकि परिचालन संबंधित विलंब की समस्या सामने आई है, लेकिन महामारी से हमारी योजनाएं प्रभावित नहीं हुई हैं।' एमऐंडएम ने इस त्योहारी सीजन में ई-केयूवी100 पेश करने की योजना बनाई है, जिसके बाद इस वित्त वर्ष के अंत तक ई-क्वाड्रीसाइकल एटम को उतारा जाएगा। इसके बाद अगले वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही तक ई-एक्सयूवी300 को पेश किया जाएगा।

बाबू ने कहा, 'महामारी से पैदा हुई समस्याएं अल्पावधि से जुड़ी हुई हैं। ईवी नया भविष्य हैं।' उन्होंने कहा कि इसने उद्योग को पुनर्विचार करने का अवसर दिया है। लेकिन महामारी के बीच हर कोई ईवी को बढ़ावा नहीं दे रहा है।
 


jyoti choudhary

Related News