उद्योग सेक्टर को सरकार से है उम्मीद, बजट में Standard Deduction की बढ़ेगी सीमा

2021-01-29T10:50:20.153

बिजनेस डेस्कः कोरोना महामारी की वजह से एक फरवरी को पेश होने वाले बजट से हर सेक्टर को इस बार बजट से खास उम्मीदें हैं। ऐसे में उद्योग जगत भी बजट 2021 से उम्मीदें लगाकर बैठा है। उद्योग सेक्टर के एक बड़े तबके को उम्मीद है कि इस बार बजट में वेतनभोगी व्यक्तियों के लिए मानक कटौती की सीमा को बढ़ा दिया जाएगा, जो कि इस वक्त 50 हजार रुपए है। माना जा रहा है कि सरकार Standard Deduction की सीमा 50 हजार से बढ़ाकर 1 लाख रुपए तक कर सकती है।

KPMG के एक सर्वे के मुताबिक, उद्योग सेक्टर के एक बड़े तबके का मानना है कि सरकार आने वाले सालों में काफी बढ़े हुए खर्च का सामना करने की संभावना है। ऐसे में राजस्व की जरूरतों को पूरा करने के लिए नए कर (टैक्स) लागू करने की बजाय आर्थिक सुधार के साथ-साथ बेहतर प्रौद्योगिकी-संचालित प्रवर्तन की मदद से संग्रह बढ़ाने की आवश्यकता है। हालांकि, कुछ का इस बात की भी आशंका है कि इस बजट में एक नया और छोटा COVID-19 उपकर का ऐलान किया जा सकता है। सर्वे में अलग-अलग सेक्टर के लोगों ने लिया हिस्सा भारत के बजट 2021-22 के पहले केपीएमजी द्वारा आयोजित सर्वे में सभी क्षेत्रों के करीब 250 लोगों ने हिस्सा लिया। इनमें से अधिकतर लोगों का मानना है कि वेतनभोगी वर्ग को राहत देने के लिए सरकार को वेतन आय मानक कटौती की सीमा को बढ़ाना चाहिए। सर्वे में करीब 74% लोगों ने यही जवाब दिया कि इस सीमा को 50,000 की मौजूदा सीमा से मानक कटौती में वृद्धि पर विचार करना चाहिए।  

57% लोगों की है ये राय  
इसके अलावा लगभग 57 फीसदी लोगों का मानना है कि वर्क फ्रॉम होम को ध्यान में रखते हुए वेतनभोगियों के लिए कर-मुक्त भत्ते/अनुलाभ भी बजट में दिए जा सकते हैं। वहीं, 39% ने संभावना जताई कि 2021-22 के बजट में कोविड-19 उपचार से संबंधित चिकित्सा खर्चों के लिए एक अलग कटौती की जा सकती है। 
 


Content Writer

jyoti choudhary

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static