अर्थव्यवस्था के लिए अच्छी खबर, उम्मीद से अधिक तेजी से उबर रही भारतीय इकॉनमीः रिपोर्ट

2020-11-15T14:00:55.247

बिजनेस डेस्कः भारतीय अर्थव्यवस्था में उम्मीद से बेहतर रिकवरी देखने को मिल रही है और संभव है कि भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ब्याज दरें घटाने के अंतिम छोर पर खड़ा हो। वैश्विक स्तर पर पूर्वानुमान लगाने वाली कंपनी ऑक्सफोर्ड इकोनॉमिक्स (Oxford Economics) ने एक रिपोर्ट में भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर यह बात कही है। ऑक्सफोर्ड इकोनॉमिक्स नें कहा कि चालू वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में मुद्रास्फिति औसतन 6 फीसदी के उपर ही रहने का अनुमान है। दिसंबर में होने वाली मौद्रिक नीति बैठक में आरबीआई ब्याज दरों में कोई कटौती नहीं करने का फैसला ले सकता है।

यह भी पढ़ें- दिवाली के बाद भी कई दिन बंद रहेंगे बैंक, चेक कर लें छुट्टियों की लिस्ट

महंगाई बन रही समस्या
इस रिपोर्ट में कहा गया, 'अक्टूबर में उपभोक्ता महंगाई कोरोना काल के पहले स्तर पर रहा। ईंधन को छोड़कर लगभग सभी श्रेणियों में कीमतों में इजाफा देखने को मिला। चौ​थी तिमाही में महंगाई सबसे अधिक रह सकती है। 2021 की ट्रैजे​क्टरी को लेकर अधिक सतर्क हो गए हैं।

यह भी पढ़ें- रिलायंस रिटेल ने अर्बन लैडर में 96% हिस्सेदारी खरीदी, 182 करोड़ रुपए में हुआ सौदा 

अक्टूबर महीने में खुदरा महंगाई दर 7.61 फीसदी के साथ सब्जी, फल और अंडे का भाव करीब साढ़े छह साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है। आरबीआई के लक्ष्य के आधार पर देखें तो यह ज्यादा है। सितंबर 2020 में खुदरा महंगाई दर 7.27 फीसदी रहा था। ऑक्सफोर्ड इकोनॉमिक्स ने कहा, 'ठीक इसी समय कई आर्थिक गतिविधियों से पता चलता है कि भारती​य अर्थव्यवस्था उम्मीद से बेहतर रिकवर कर रही है। हम उम्मीद है कि आरबीआई अब नीतिगत ब्याज दरों में ढील देने की प्रक्रिया पर ब्रेक लगाएगा।'

यह भी पढ़ें- आनंद महिंद्रा ने शेयर किया 1975 की दिवाली की खास याद, 45 साल से साथ है कॉलेज टाइम की ये निशानी


jyoti choudhary

Recommended News