कोरोना का असरः India Ratings ने घटाया GDP ग्रोथ रेट का अनुमान

04/23/2021 5:41:17 PM

बिजनेस डेस्कः कोरोना महामारी की दूसरी लहर का असर देश की अर्थव्यवस्था पर भी नजर आने लगा है। आर्थिक शोध एजेंसी इंडिया रेटिंग्स एण्ड रिसर्च ने शुक्रवार को वर्ष 2021-22 के लिए भारत की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि का अनुमान पहले के 10.4 प्रतिशत से घटाकर 10.1 प्रतिशत कर दिया है। देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर को देखते हुए यह संशोधन किया गया है। 

PunjabKesari

यह भी पढ़ें- कोविड के इलाज में कैशलेस दावों से इनकार नहीं कर सकती बीमा कंपनी, वित्त मंत्री ने दी चेतावनी

RBI का अनुमान- 10.5% रहेगी GDP वृद्धि 
इंडिया रेटिंग्स ने कहा है कि जब देश के बड़े हिस्से में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों से चिकित्सा सुविधाओं पर भारी दबाव है। ऐसे में एजेंसी ने कहा है कि कोरोना की यह दूसरी लहर मध्य मई से कमजोर पड़नी शुरू हो जाएगी। रिजर्व बैंक ने भी इस माह की शुरुआत में जारी मौद्रिक नीति की समीक्षा में चालू वित्त वर्ष के दौरान जीडीपी वृद्धि 10.5 प्रतिशत रहने का अनुमान व्यक्त किया है हालांकि गवर्नर शक्तिकांत दास ने इस दौरान देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को वृद्धि के रास्ते में आने वाली सबसे बड़ी अड़चन बताया। 

PunjabKesari

यह भी पढ़ें- फिच ने भारत की रेटिंग 'BBB' बरकरार रखी, कहा- महामारी की वजह से रिकवरी में होगी देरी

दूसरी लहर का ज्यादा अर्थिक प्रभाव नहीं
अन्य ब्रोकरेज कंपनियां और विश्लेषक भी कोरोना वायरस की दूसरी लहर को देखते हुए भारत की आर्थिक वृद्धि के अपने अनुमानों को कम कर रहे हैं। पिछले वित्त वर्ष 2020-21 में भारत की जीडीपी दर में 7.6 प्रतिशत गिरावट आने का अनुमान है। इंडिया रेटिंग्स ने कहा है कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर का आर्थिक प्रभाव इतना ज्यादा नहीं होगा जैसा कि पहली लहर का पड़ा था। इसकी वजह, पहली लहर के चरम पर पहुंचने के समय जितने मामले थे उसके मुकाबले दूसरी लहर में दैनिक मामलों की संख्या तीन गुणा तक पहुंच जाने के बावजूद लॉकडाउन स्थानीय स्तर तक ही सीमित रखा जा रहा है। इसके साथ ही कोरोना वायरस का टीका लगने से भी सुरक्षा बढ़ेगी। 

PunjabKesari

देश में 21 अप्रैल तक 13.20 करोड़ लोगों को टीका लग चुका है। सरकार ने एक मई से सभी वयस्को को टीका लगाने की घोषणा की है इसके लिये 176.80 करोड़ खुराक की आवश्यकता होगी। टीके का उत्पादन और टीकाकरण की रफ्तार दोनों ही कोरोना के बढ़ते मामलों को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण होंगे। एजेंसी ने कहा, "यही वजह है कि इंडिया रेटिंग्स ने वित्त वर्ष 2021-22 की जीडीपी वृद्धि के अनुमान को पहले के 10.4 प्रतिशत से घटाकर 10.1 प्रतिशत कर दिया है।''

यह भी पढ़ें- केंद्र सरकार ने किया एक बार फिर मुफ्त राशन का ऐलान, 80 करोड़ लोगों को होगा फायदा


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

jyoti choudhary

Recommended News