न्यूयॉर्क एक्सचेंज से डी-लिस्ट होगी चीन की दिग्गज ''दीदी'', हॉन्गकॉन्ग में लिस्ट होने की तैयारी

punjabkesari.in Saturday, Dec 04, 2021 - 05:07 PM (IST)

नई दिल्लीः चीन की दिग्गज राइड हेलिंग कंपनी दीदी ग्लोबल ने न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज (एन.वाई.एस.ई.) से अपने शेयर टेक ऑफ करने की घोषणा की है। कंपनी ने यह भी कहा है कि वह अपनी लिस्टिंग को हांगकांग में ट्रान्सफर करेगी। दीदी जुलाई में अमरीका में लिस्ट हुई थी और तब से कंपनी पर भारी नियामकीय दबाव है।

दीदी के आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आई.पी.ओ.) लाने के कुछ दिनों के भीतर ही चीन ने विदेशों में सूचीबद्ध होने वाली प्रौद्योगिकी कंपनियों पर कार्रवाई करने की घोषणा की। इससे पहले गुरुवार को अमरीकी बाजार वॉचडॉग ने अमरीका में सूचीबद्ध चीनी फर्मों के लिए सख्त नए नियमों का खुलासा किया। जून के अंत में दीदी ने अपने न्यूयॉर्क आई.पी.ओ. से 4.4 अरब डॉलर जुटाए थे।

बोर्ड ने दी मंजूरी
दीदी ने चीन में ट्विटर जैसे माइक्रोब्लॉगिंग नैटवर्क वीबो पर अपने हैंडल से कहा, "सावधानीपूर्वक रिसर्च करने के बाद कंपनी तुरंत न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में डीलिस्ट करना शुरू कर देगी और हांगकांग में लिस्टिंग की तैयारी शुरू कर देगी।" एक अलग अंग्रेजी भाषा के बयान में दीदी ने कहा कि उसके बोर्ड ने इस कदम को मंजूरी दे दी है। कंपनी आवश्यक प्रक्रियाओं का पालन करते हुए भविष्य में उचित समय पर उपरोक्त मामले पर मतदान करने के लिए शेयरधारकों की बैठक आयोजित करेगी।

कौन है दीदी का सबसे बड़ा निवेशक
जापान का सॉफ्टबैंक 20 प्रतिशत से अधिक की हिस्सेदारी के साथ दीदी का सबसे बड़ा एकल निवेशक है। यह चीनी प्रौद्योगिकी दिग्गज अलीबाबा और टेनसेंट द्वारा भी समर्थित है। 2016 से दीदी में उबर की भी हिस्सेदारी है। दीदी ने 2016 में उबर चीन का अधिग्रहण किया था। दीदी ग्लोबल के शेयरों ने अमेरिकी बाजार में शुरूआत के बाद से अपने मूल्य का 40 प्रतिशत से अधिक खो दिया है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

jyoti choudhary

Related News

Recommended News