22 तिब्बती बच्चों की ‘अविवाहित मां’

2020-03-19T05:40:51.183

पांडर का जन्म दक्षिण-पश्चिमी चीन के स्वायत्त क्षेत्र में हुआ था। शिगात्सी शहर नेपाल, भूटान तथा भारतीय सीमा से सटा हुआ है। वह 22 तिब्बती बच्चों की अविवाहित मां है, जो कभी भी गर्भवती नहीं हुई, न ही कभी ब्याही गई। 6 वर्ष पूर्व पांडर क्षेत्रीय राजधानी लहासा में आई थी जहां पर उसे चिल्ड्रन्स होम में नौकरी मिली। यहां पर उसे नवजात शिशुओं की देखभाल करनी थी जब तक कि वे कालेज के छात्र नहीं बन जाते। यह चिल्ड्रन्स होम ऐसी महिलाओं की नियुक्ति के लिए देख रहा था जो पारिवारिक इकाइयों को सम्भाल सकें। 

यहां पर 300 बच्चों को 18 परिवारों में बांटा गया और उनके लिए एक फुलटाइम मां की जिम्मेदारी सौंपी गई। चिल्ड्रन्स होम की निदेशिका नौरबू ड्रोल्मा का कहना है कि यह मां एक टीचर से भिन्न है। यहां पर बच्चों को घर और मां दोनों की कमी महसूस नहीं होने दी जाती। 2015 में फैमिली नं. 10 के प्रमुख के तौर पर पांडर 22 बच्चों की मां बनी। उसका कहना है कि वह बड़ी गहराई से एक मां की भूमिका निभा रही है। कुछ बच्चे तो स्कूल के बाहर कालेज में प्रवेश कर चुके हैं और कद में इतने लम्बे हैं कि उनसे बात करने में पांडर को मुश्किल होती है।    


Pardeep

Related News