पर्दे को खत्म करने के लिए गहलोत ने गाया ‘घूंघट हटाओ’

2019-12-08T03:07:43.7

आधुनिक, युग में महिलाओं के लिए पर्दा करने या फिर बुर्का पहनने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि दुनिया चांद तथा मंगल तक पहुंच चुकी है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने घूंघट हटाने के लिए गाना गाकर एक अभियान छेड़ा है। श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के तहत अपने घर में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान गहलोत ने धर्मनिरपेक्षता का एक बड़ा संदेश दिया। उन्होंने कहा कि यह विज्ञान, मोबाइल का युग है। 

सैलफोन के माध्यम से कहीं भी पहुंचना आसान हो चुका है और इस हालात में महिला को पर्दे के पीछे रखने का क्या औचित्य है? उन्होंने घूंघट हटाओ अभियान पर तेजी लाने पर जोर देते हुए कहा कि देश को अब इसके लिए आगे आना चाहिए तथा हाथ से हाथ मिलाना चाहिए। महिलाओं के साथ-साथ उन्होंने पुरुषों से भी आवेदन किया कि वे इसके समर्थन में आगे आएं। उन्होंने कहा कि भारत एक पुरुष प्रधान राष्ट्र है तथा वह महिलाओं को पर्दे के पीछे रहने के लिए दबाव डालता है। 

गहलोत ने कहा कि आधुनिक युग में नानक की विचारधारा की बहुत जरूरत है। इस मौके पर उन्होंने सिख युवकों को कहा कि वे राज्य के किसी भी कम्पीटीटिव एग्जाम में बैठने के दौरान अपने धार्मिक चिन्ह कड़ा, कृपाण व पगड़ी पहन सकते हैं। उन्होंने यह भी घोषणा की कि सिख रीति-रिवाज से शादियों के पंजीकरण के कानून में भी संशोधन किया जाएगा। उन्होंने राजस्थान आनंद मैरिज रजिस्ट्रेशन रूल्ज 2019 के प्रारूप को भी अपनी स्वीकृति दे दी।   


Pardeep

Related News