सांप ने काटा, अस्पताल पहुंचीं मां-बेटी, साथ में ‘जिंदा सांप’ भी ले आईं

7/15/2019 4:48:34 AM

यदि सांप काट ले तो आप क्या करेंगे? मुम्बई के धारावी डिपो की सोनेरी चाल में रहने वाली महिला और उसकी बेटी को रविवार को एक सांप ने काट लिया। वह महिला अपनी बेटी के साथ इलाज के लिए फौरन सायन अस्पताल पहुंची लेकिन डाक्टर यह देखकर हैरान रह गए कि वे दोनों अपने साथ उस जिंदा सांप को भी लाई थीं जिसने उन्हें काटा था। उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि उन्हें उम्मीद थी कि इससे डाक्टरों को सही एंटी-वेनम या विषरोधी इंजैक्शन खोजने में मदद मिलेगी। 

सुल्ताना खान (34) ने बताया ‘रविवार को सुबह 11 बजे के आसपास जब तहसीन (18) और परिवार के दूसरे लोग नाश्ता कर रहे थे, उसी समय सांप घर में घुसा और तहसीन को काट लिया। यह देखकर सब घबरा गए। मैंने फौरन सांप को उसके हाथ से खींचा लेकिन इस बीच उसने मुझे भी उंगलियों में काट लिया।’ 

सांप की पहचान के लिए 
इसके बाद सुल्ताना ने सांप को छोड़ा नहीं, पकड़े रखा और टैक्सी बुलाकर अपनी बेटी के साथ अस्पताल पहुंचीं। वह अपने साथ सांप को इसलिए लाई थीं क्योंकि एक बार जब उनके किसी रिश्तेदार को सांप ने काट लिया था उस समय उनका इलाज करने वाले डाक्टर ने कहा था कि अगर सांप की सही पहचान हो जाए तो उसके लिए एंटी-वेनम चुनने में आसानी होती है। सुल्ताना कहती हैं, ‘मुझे वह घटना याद थी, मैं सांप को इसलिए पकड़कर ले आई ताकि उसको पहचानने में देर न हो जाए।’ 

ऐसा करना गैर जरूरी 
लेकिन सायन अस्पताल के डीन इंचार्ज डा. प्रमोद इंगले कहते हैं कि इसकी बिल्कुल भी जरूरत नहीं थी। डा. इंगले ने बताया, ‘भले ही सांप किसी भी किस्म का हो उसके इलाज का तरीका समान होता है। अब एक यूनिवर्सल एंटी-स्नेक वेनम इंजैक्शन आता है जो सभी तरह के सर्प दंश में असर करता है। दोनों मां और बेटी को उसके चार-चार इंजैक्शन लगाए गए हैं। उनकी हालत स्थिर है और वे हमारी देखरेख में हैं।’ सांप को अस्पताल लाने के बारे में डा. इंगले कहते हैं, ‘इस तरह किसी सांप को लाना बहुत खतरनाक है। किसी को भी ऐसा जोखिम नहीं लेना चाहिए।’ सुल्ताना ने बताया, ‘सांप के काटने से तहसीन का हाथ सूज गया था, उसका बायां हाथ एकदम सुन्न हो गया था। इलाज के दौरान उसे दो बार उल्टियां भी हुईं।’ बहरहाल, सांप पूरी तरह से स्वस्थ रहा, उसे जानवरों की देखरेख करने वालों को सौंप दिया गया है।-एच. मित्रा