आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी को मुंबई में रिहा किया जाना चाहिए: बिहार के पुलिस महानिदेशक

2020-08-07T00:16:00.39

पटना, छह अगस्त (भाषा) बिहार के पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय ने अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले की जांच के लिए मुंबई गए प्रदेश के आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी को लौटने की अनुमति नहीं दिए जाने पर बृहस्पतिवार को चेतावनी दी और कहा कि इससे इनकार करने पर उच्चतम न्यायालय से कड़ी कार्रवाई हो सकती है।
पांडेय ने अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले की जांच के लिए मुंबई गए प्रदेश के आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी को लौटने की अनुमति नहीं दिए जाने के बारे में बृहस्पतिवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि बीएमसी अधिकारियों ने अगर समय रहते सकारात्मक रुख नहीं अपनाया तो उन्हें उच्चतम न्यायालय का कोप झेलना पड सकता है ।
पांडेय ने कहा,‘‘हमें उम्मीद थी कि पृथक-वास में रखे गए आईपीएस अधिकारी को वे छोड देंगे पर बुधवार रात 11 बजे जब मैंने विनय तिवारी को फोन किया तो पता चला कि उन्हें नहीं छोडा गया है ।’’ उन्होंने यह भी कहा कि राज्य सरकार को इस बारे में बता दिया है और आज भर इंतजार करेंगे और उसके बाद महाधिवक्ता से राय लेकर शुक्रवार को तय करेंगे कि क्या करना है । अदालत भी जाने का एक विकल्प है । इस बीच, पटना पुलिस की चार सदस्यीय टीम जो एक सप्ताह से अधिक समय से मुंबई में डेरा डाले हुए थी और मामले की जांच कर रही थी, के आज यहां लौट आने के बारे में उन्होंने कहा कि टीम ने क्या जांच की यह मीडिया से साझा नहीं किया जा सकता । अनुसंधान की बात उच्चतम न्यायालय में रखी जाएगी।

उल्लेखनीय है कि 34 वर्षीय सुशांत 14 जून को मुंबई के बांद्रा स्थित अपने अपार्टमेंट में मृत पाए गए थे।
दिवंगत अभिनेता सुशांत के पिता के के सिंह ने पटना शहर के राजीव नगर थाने में मामला दर्ज कराया है।
सिंह द्वारा लगाए गए आरोपों की जांच के लिए पूर्व में चार सदस्यीय विशेष पुलिस जांच दल पटना से मुंबई गया था और इस टीम का नेतृत्व करने मुंबई पहुंचे पटना नगर पुलिस अधीक्षक विनय तिवारी को रविवार की रात्रि 11 बजे बीएमसी अधिकारियों ने पृथक-वास में भेज दिया था।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

Edited By

PTI News Agency

Related News