CPM विधायक पर यौन शोषण के आरोप, महिला आयोग प्रमुख बोली- यह आम बात

नेशनल डेस्क: माकपा विधायक पीके शशि इन दिनों यौन शोषण का आरोप झेल रहे हैं। डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया (डीवाईएफआई) की एक महिला नेता द्वारा विधायक पर लगाए गए आरोप को ले​कर राज्य में राजनीति भी शुरू हो गई है। वहीं इसी बीच केरल राज्य महिला आयोग प्रमुख एमसी जोसेफिन ने पीके शशि का बचाव करते हुुए विवादित बयान दे दिया। 



एमसी जोसेफिन ने कहा कि इसमें नया कुछ भी नहीं है, हम सब इंसान और ऐसी गलतियां हो जाती हैं। पार्टी में मौजूद लोग भी ऐसी गलतियां कर देते हैं। इसके साथ ही महिला आयोग ने इस मामले में दखल देने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि पीड़िता ने महिला आयोग से कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई है, मामला दर्ज करने के लिए बेसिक डिटेल्स की जरूरत होती है जो हमारे पास नहीं है। 


महिला आयोग प्रमुख ने कहा कि सीपीआई(एम) अंदरुनी तौर पर इस मामले से निपट सकता है। उन्होंने कहा कि  यह पार्टी का फैसला है उनके पास इस तरह की शिकायतों से निपटने के लिए अपनी प्रणाली है। यह कोई नई बात नहीं है। अपनी स्थापना के समय से ही पार्टी इस तरह की शिकायतों से निपटती आ रही है। वहीं राष्ट्रीय महिला आयोग ने इस पर संज्ञान लेते हुए केरल पुलिस को जांच के आदेश दिए हैं। 

गोरतलब है कि डीवाईएफआई की एक महिला नेता ने सीपीएम विधायक पीके शशि पर यौन शोषण की कोशिश करने का आरोप लगाया। हालांकि विधायक ने इन सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि उनकी राजनीतिक छवि खराब करने की ‘सुनियोजित साजिश’ है। कई लोग राजनीतिक रूप से उन्हे बर्बाद करना चाहते हैं। 

 

Related Stories:

RELATED बौद्ध भिक्षु यौन शोषण करते हैं, यह बात 1990 के दशक से जानता हूं: दलाई लामा