Kundli Tv- क्यों नहीं करने चाहिए श्रीकृष्ण के पीठ के दर्शन?

ये नहीं देखा तो क्या देखा (देखें Video)
अक्सर देखने को मिलता है कुछ लोग मंदिर माथा टेकने के बाद मंदिर के पीछे परिक्रमा करते करते भगवान की पीठ के दर्शन करते हैं और माथा टेकते हैं। लेकिन ज्योतिष शास्त्र के अनुसार एेसा करना ठीक नहीं माना जाता। हम जानते हैं अब आपके मन में ये प्रश्न ज़रूर उठ रहा होगा कि आखिर एेसा करने में गलत क्या है। तो आइए आपको बताते हैं इससे जुड़ी श्रीकृष्ण की एक रोचक कहानी कि क्यों कभी भी किसी को उनकी पीठ के दर्शन नहीं करने चाहिए। 
PunjabKesari

इसलिए नहीं करने चाहिए कृष्ण की पीठ के दर्शन 
दरअसल श्रीकृष्ण की पीठ के दर्शन न करने के संबंध में भगवान विष्णु के अवतार श्रीकृष्ण की एक कथा बहुत प्रचलित है। इस कथा के अनुसार जब श्रीकृष्ण जरासंध से युद्ध कर रहे थे तब जरासंध का एक साथी असूर कालयवन भी भगवान से युद्ध करने आ पहुंचा। कालयवन श्रीकृष्ण के सामने पहुंचकर उन्हें ललकारने लगा। तब श्रीकृष्ण वहां से भाग निकले। इस तरह रणभूमि से भागने के कारण ही उनका नाम रणछोड़ पड़ा।

 PunjabKesari
जब श्रीकृष्ण भाग रहे थे तब कालयवन भी उनके पीछे-पीछे भागने लगा। इस तरह भगवान रणभूमि से भागे क्योंकि कालयवन के पिछले जन्मों के पुण्य बहुत अधिक थे और कृष्ण किसी को भी तब तक सजा नहीं दे सकते थे क्योंकि उसके पुण्य का बल अभी बाकी रहता था। कालयवन कृष्णा की पीठ देखते हुए भागने लगा और इसी तरह उसका अधर्म बढ़ने लगा। इसलिए कहा जाता है कि भगवान की पीठ पर अधर्म का वास होता है और उसके दर्शन करने से अधर्म बढ़ता है।
Kundli Tv- लड्डू गोपाल को घर में कैसे रखें? (देखें Video)

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!