Kundli Tv- हिंदू धर्म में क्यों बीज मंत्रों का है इतना महत्व, जानें यहां

ये नहीं देखा तो क्या देखा (देखें VIDEO)
अगर आप हिंदू धर्म को मानते हैं तो आपने बीज मंत्रों के बारे में ज़रूर सुना होगा। अक्सर देखा जाता है कि कईं तरह के पूजा-पाठ में बीज मत्रों का इंस्तेमाल किया जाता है। लेकिन आख़िर ये बीज मंत्र होते हैं क्या है और क्यों हिंदू धर्म में ख़ासकर प्रत्येक
पूजा के कार्य में इनका प्रयोग किया जाता है। इसके बारे में शायद ही किसी को पता होगा। तो आईए आज हम आपको बताते हैं कि क्यों इन्हें इतना महत्व दिया जाता है।
PunjabKesari
बीज मंत्रों का अर्थ होता है छोटे मंत्र। ये महज एक शब्द के होते हैं। इसके अलावा वृहद मंत्र भी होते हैं। वृहद मंत्र 60 शब्दों तक के होते हैं। बीज मंत्रों के बारे में कहा जाता है कि ये बहुत छोटे होते हैं लेकिन बहुत प्रभावशाली होते हैं। इसके अलावा अलग-अलग समस्यों के समाधान के लिए अलग-अलग बीज मंत्रों का इस्तेमाल किया जाता है।

'एे' बीज मंत्र को गुरु बीज मंत्र कहा जाता है। इसे देवी सरस्वती का बीज मंत्र माना गया है। कहते हैं कि इस बीज मंत्र के जाप से विद्या, बुद्धि और परीक्षा के क्षेत्र में सफलता मिलती है। इसके साथ ही इस गुरु बीज मंत्र को धारण करने से परिवार में खुशियां आने की भी मान्यता है। 
PunjabKesari
काली बीज मंत्र के जाप से शक्ति, यश, रोजगार और बिजनेस के क्षेत्र में तरक्की होने की मान्यता है। काली बीज मंत्र को शनिवार के दिन धारण करना शुभ माना गया है।

'भं' को अभय बीज मंत्र के नाम से जाना जाता है। इसे भैरव देव का बीज मंत्र बताया गया है। कहा जाता है कि भैरव बीज मंत्र के जाप से ग्रह बाधा, भूत बाधा और तंत्र बाधा से मुक्ति मिलती है। इस मंत्र को शुक्रवार या शनिवार के दिन धारण किया जा सकता है। 
PunjabKesari
कहा जाता है कि शांति बीज मंत्र के जाप से दांपत्य सुख की प्राप्ति होती है। इसे बुधवार या रविवार को धारण करना शुभ माना जाता है।
शिव मंदिर से उठा लाएं ये एक चीज़, आपकी सभी wishes होंगी पूरी (देखें VIDEO)

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED Kundli Tv- क्या है मंत्र शांति पाठ, क्या है इसके फायदे?