Kundli Tv- Independence day: कौन बनेगा भारत के भाग्य का विधाता

ये नहीं देखा तो क्या देखा (देखें VIDEO)
PunjabKesari

साल 2018 में शक संवत 1940 है जिसका नाम विलम्बी है तथा विक्रम संवत 2075 है, जिसका नाम विरोधकृत है। साल 2018 में नवग्रह की बिसात पर राजा सूर्य, मंत्री शनि तथा काल का निवास वैश्य के घर है। भारत का भविष्य स्वतंत्रता दिवस पर बनी कुंडली से किया जाता है। दिनांक 15.08.18 को आधी रात को ठीक 12 बजे विक्रम  संवत 2075 पर सावन महीने के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि है। इस समय वृष लग्न में भारत स्वतंत्रता के 72वें वर्ष में प्रवेश करेगा। मध्य रात्रि के ठीक 12 बजे के योग के आधार पर चंद्रमा कन्या राशि और हस्त नक्षत्र में गोचर शील हैं। योग बना है साध्य, कारण है विष्टि (भद्रा), वर्ण वैश्य है, वश्य है मानव, योनि है महिष, गण देवता के हैं तथा नाड़ी आद्य है और वर्ग है मेष। मध्य रात्रि के समय अग्निवास पृथ्वी पर और भद्रावास पाताल में है तथा इस समय दुर्मुहूर्त भी है। ऐसे योग में भारत में अनावृष्टि कहीं कम कहीं अधिक, अकाल और राजनेताओं में परस्पर युद्ध होने के संकेत मिलते हैं।
PunjabKesari
सूर्य सिद्धांत वर्षफल तकनीक के अनुसार सूर्य लग्न कर्क राशि का बना है और सूर्य कुंडली में सूर्य और बुध राहू से पीड़ित हैं। सूर्य लग्न कुंडली में मुंथा नवम भाव (मेष) में विराजित है। मुंथेश मंगल उच्च राशि (मकर) में सप्तम भाव केंद्र में विराजमान है। मेष पर गुरु व मंगल की पूर्ण दृष्टि है। स्वतंत्रता का यह साल भारत के लिए प्रतिष्ठा लाएगा। शिक्षा और तकनीकी क्षेत्र में श्रेष्ठ रहेगा। भारत पराक्रम व मेहनत के बल पर विश्व में अलग पहचान बनाने में सफल होगा। परंतु मुंथेश्वर वर्षफल तकनीक के अनुसार लग्न बना है वृष राशि का तथा मुंथा (मेष) द्वादश भाव में स्थित है। यह बहुत अच्छी स्थिति नहीं कही जा सकती, इस कारण देश की आंतरिक स्थितियों में विरोध बनेगा। राजनीतिक, सामाजिक व पारिवारिक दृष्टि से अनेक विचलित करने वाली विरोधाभासी घटनाएं होंगी। वर्षफल चंद्र कुंडली के अनुसार मुंथा अष्टम स्थान पर विराजित है। अतः यह साल जल की त्रासदी दर्शा रहा है। इस साल पड़ोसी देशों से युद्ध जैसे हालात पैदा हो सकते हैं।
PunjabKesari
स्वतंत्र भारत की राशि कर्क है। 15.08.18 को भारत पर राशि स्वामी चंद्रमा की महादशा है जोकि 2025 तक रहेगी। 15.08.18 को भारत की कुंडली के अनुसार भारत पर गुरु की अतंर्दशा में गुरु का ही प्रत्यंतर है। भारत के लिए यह साल संकट भरा रहेगा। सेना के लिए संकटपूर्ण स्थिति रहेगी। बाहरी तत्व देश में अस्थिरता फैलाने की कोशिश करेंगे। विरोधी दलों द्वारा अशांति फैलाने का प्रयास होगा। राज्य सरकारों की आर्थिक स्थिति कमजोर होगी। महंगाई व बेरोजगारी बढ़ेगी। 15.08.18 के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत तेजी से विकास के पथ पर आगे बढ़ेगा। मोदी जी को अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। विपक्षी दलों में एकता देखने को मिलेगी। नोटबंदी और जी.एस.टी जैसे मुद्दे हवा में उड़ जाएंगे। 29.03.19 से 22.04.19 जब बृहस्पति धनु में आएंगे तब संभवत लोकसभा और विधानसभा के चुनाव होंगे। जिसमे एक बार फिर बीजेपी सरकार बनने की संभावना है तथा नरेंद्र मोदी जी फिर से प्रधानमंत्री बन सकते हैं। परंतु बीजेपी के लिए जीत आशा के विपरीत संदिग्ध रहेगी, इसी कारण अगली सरकार मिली जुली हो सकती है तथा बीजेपी का वोट प्रतिशत और सीटों का ग्राफ वर्तमान समय से बहुत नीचे गिरेगा। महान ज्योतिषशास्त्री नास़्त्रेदमस ने भी 450 साल पूर्व यही भविष्यवाणी की थी।
PunjabKesari
आचार्य कमल नंदलाल
ईमेल: kamal.nandlal@gmail.com

बुधवार को कौन सा तंगी को कर सकता है दूर ? (देखें VIDEO)
 

× RELATED Kundli Tv- इन SPECIAL टोटकों से लाइफ हो जाएगी शानदार