''पहले अंडा आया या मुर्गी''  रहस्य से वैज्ञानिकों ने उठाया पर्दा

क्वींसलैंडःसदियों से यह सवाल वैज्ञानिकों और दर्शनशास्त्रियों के दिमाग़ को मथता रहा है कि पहले अंडा आया या मुर्गी।   इस सवाल पर प्राचीन काल में ही ग्रीस विचारकों के बीच बहस छिड़ गई थी और कोई भी एक मत नहीं थे। और अगर आप कहेंगे कि मुर्गी पहले आई तो वही सवाल दोबारा पूछा जाएगा कि आखिर मुर्गी कहां से आई, वो तो किसी अंडे से ही निकली होगी। अब सवाल ये उठेगा कि मुर्गी से पहले अंडा आया । लेकिन दोबारा वही सवाल कि मुर्गी तो अंडे से निकल गई, लेकिन जिस अंडे से वो निकली वो कहां से आया। 
PunjabKesari
लेकिन अब ऑस्ट्रेलिया में क्वींसलैंड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों और फ़्रांस में एनईईएल संस्थान ने इस रहस्य से पर्दा उठाते ये साबित करने का दावा किया है कि क्वांटम फिज़िक्स के अनुसार अंडे और चिकन दोनों ही पहले आए हैं। क्वींसलैंड यूनिवर्सिटी में एआरसी सेंटर ऑफ़ एक्सलन्स फॉर क्वांटम इंजीनियरिंग सिस्टम के भौतिक विज्ञानी जैक़ी रोमेरो ने कहा, ''क्वांटम मैकेनिक्स का मतलब ये है कि ये किसी तय नियमित क्रम के बिना हो सकती है।'
PunjabKesari
वो कहते हैं, "आप अपने रोज के आने-जाने का उदाहरण लें, जहां आप कुछ दूर ट्रेन से तो कुछ दूर बस से सफ़र करते हैं, आम तौर पर आप पहले बस लेते हैं और फिर ट्रेन या फिर इसके उलट।"वो कहते हैं कि हमारे शोध में दोनों ही चीज़ें पहले हो सकती हैं, जिसे 'अनिश्चितता के कारणों का क्रम' माना जाता है, इसे हम अपने दैनिक जीवन में नहीं देखते हैं। "प्रयोगशाला में इस प्रभाव को देखने के लिए, शोधकर्ताओं ने फ़ोटोनिक क्वांटम स्वीच नामक एक विन्यास (कॉन्फ़िगरेशन) का उपयोग किया।  रोमेरो ने बताया, "क्वांटम स्वीच के साथ हमारे शोध में दो घटनाओं का क्रम जिस पर निर्भर करता है उसे कंट्रोल कहते हैं।"
PunjabKesari
"कंप्यूटर के बिट्स का उदाहरण लीजिए जिसका वैल्यू (मान) 0 या 1 होता है. हमारे शोध में, यदि कंट्रोल वैल्यू 0 है तो 'बी' से पहले 'ए' होता है। . और यदि कंट्रोल वैल्यू एक है तो 'ए' से पहले 'बी' होगा।""क्या होता है कि क्वांटम फिज़िक्स में हमारे पास सुपरपोजिशन (एक के ऊपर दूसरी चीज़ को बैठाने की प्रक्रिया) में बिट्स हो सकते हैं, जिसका मतलब है कि उनका वैल्यू एक ही समय में 0 और 1 है। इसलिए, एक निश्चित अर्थ में हम कह सकते हैं कि बिट्स का वैल्यू अपरिभाषित है।""और कंट्रोल के अनिश्चित वैल्यू की वजह से जो ऑर्डर तय करता है, हम कह सकते हैं कि 'ए' और 'बी' घटनाओं के बीच अपरिभाषित ऑर्डर है।" आम तौर पर यह कहना कि 'बी' से पहले 'ए' होता है या 'ए' से पहले 'बी' होगा, इनमें से केवल एक ही सत्य हो सकता है।  लेकिन क्वांटम फिज़िक्स में वास्तविकता अलग है।"यदि ये दो अभिव्यक्तियां सच हो सकती हैं तो हमें वो मिलता है जिसे हम अपरिभाषित अस्थिर ऑर्डर (क्रम) के रूप में जानते हैं।"
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!