वॉलमार्ट से मांगा गया TDS, 7 सितंबर तक करना होगा कर भुगतान

नई दिल्लीः भारत की प्रमुख ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट का अधिग्रहण करने वाली दिग्गज अमेरिकी कंपनी वॉलमार्ट पर अपनी कर देनदारी पूरा करने के लिए 7 सितंबर तक का समय है। करीब 16 अरब डॉलर में फ्लिपकार्ट के 77 फीसदी शेयर खरीदने वाली वॉलमार्ट को सौदे की 10 फीसदी से अधिक राशि कर के तौर पर जमा करनी पड़ सकती है।

7 सितंबर तक करना होगा कर भुगतान
गत मई में वॉलमार्ट ने फ्लिपकार्ट में निर्णायक हिस्सेदारी खरीदने का ऐलान किया था। पिछले हफ्ते भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग ने भी इस सौदे पर अपनी मुहर लगा दी है जिसके बाद आयकर विभाग ने अमेरिकी कंपनी के अगले कदम पर अपनी नजरें टिका दी हैं। आयकर विभाग इस बात का इंतजार करेगा कि वॉलमार्ट सौदे की रकम पर कर का भुगतान करती है या नहीं। इसके लिए वॉलमार्ट के पास 7 सितंबर तक का वक्त है।

कंपनी ने दिलाया भरोसा
असल में, भारत के बाहर की कंपनी को लाभांश या ब्याज का भुगतान किए जाने पर स्रोत पर कर कटौती (टीडीएस) करनी होती है। बाद में टीडीएस के मद में एकत्रित राशि आयकर विभाग के पास जमा करनी होती है। इस नियम के मुताबिक संभवत: वॉलमार्ट ने भी फ्लिपकार्ट की प्रवर्तक कंपनी फ्लिपकार्ट सिंगापुर को रकम के भुगतान के समय टीडीएस काटा होगा। वॉलमार्ट ने आयकर विभाग को यह भरोसा दिलाया है कि वह अपनी कर देनदारियों को पूरा करेगी। अमेरिकी कंपनी के प्रवक्ता ने कहा, ‘हम कानूनी दायित्वों को गंभीरता से लेते हैं। हम जिस देश में भी कारोबार करते हैं, वहां की सरकार के लगाए करों का भुगतान भी हमारा दायित्व है। हम भारतीय कर अधिकारियों के साथ मिलकर काम करेंगे।’ 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!