ऑफ द रिकॉर्डः वोहरा राज्यपाल के पद पर बने रहेंगे!

नेशनल डेस्कः जम्मू-कश्मीर में पी.डी.पी.-भाजपा गठबंधन सरकार के पतन के साथ ही राज्य में राज्यपाल शासन लागू हो गया है। अब सभी की निगाहें राज्यपाल एन.एन. वोहरा पर टिकी हुई हैं। वोहरा के 10 साल का कार्यकाल 24 जून, 2018 को खत्म हो रहा है। शुरू में उनको 25 जून, 2008 को 5 वर्ष के कार्यकाल के लिए नियुक्त किया गया था। मगर 13 अप्रैल, 2013 को उन्हें 5 वर्ष के लिए दोबारा नियुक्त किया गया। अब उनका कार्यकाल 24 जून को खत्म होने जा रहा है और इस संदर्भ में बहुत से नामों पर चर्चा की जा रही थी, मगर उनको एक और कार्यकाल दिया जा सकता है।
PunjabKesari
राजधानी में इन खबरों को लेकर चर्चा है कि मोदी सरकार ने नए राज्यपाल की नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू कर दी है। मगर वोहरा की किस्मत में कुछ और ही लिखा है। साऊथ ब्लाक के नौकरशाहों का विचार है कि उपद्रवग्रस्त राज्य में स्थिति से निपटने में सक्षम और अनुभवी राजनेता को ही राज्यपाल नियुक्त किया जाना चाहिए। अमरनाथ यात्रा के मद्देनजर वोहरा को बदलने में जल्दबाजी नहीं की जानी चाहिए और घाटी में स्थिति शांत होने देनी चाहिए।
PunjabKesari
मोदी सरकार नहीं चाहती कि राज्य में कोई नया गठबंधन उभरे और विधानसभा आशा के विपरीत शीघ्र ही भंग की जा सकती है। इसलिए एन.एन. वोहरा राज्यपाल पद पर बने रह सकते हैं। कुछ का कहना है कि वह ‘लाट साहब’ हैं

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!