मोबाइल टावर हिस्सेदारी, आप्टिकल फाइबर संपत्तियों को 20,000 करोड़ रुपए में बेचेगी वोडा आइडिया

नई दिल्लीः वोडाफोन आइडिया मोबाइल टावर कंपनी इंडस टावर में हिस्सेदारी और आप्टिल फाइबर संपत्तियों की बिक्री के जरिए 20,000 करोड़ रुपए जुटाने की तैयारी कर रही है। देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी इस राशि का इस्तेमाल अपने कर्ज के बोझ को कम करने के लिए करेगी। 

उद्योग के एक सूत्र ने कहा, ‘‘वोडाफोन आइडिया को मोबाइल टावर और आप्टिल फाइबर संपत्तियों के लिए सामूहिक रूप से 20,000 करोड़ रुपए का मूल्यांकन मिला है। इसके बारे में बातचीत शुरू हो गई है।’’ कंपनी ने इससे पहले इंडस टावर्स में आदित्य बिड़ला समूह की 11.5 प्रतिशत हिस्सेदारी तथा 1.56 लाख किलोमीटर की आप्टिकल फाइबर संपत्तियों की बिक्री की योजना की घोषणा की थी। 

वोडाफोन आइडिया के प्रवक्ता ने कहा कि इंडस की हिस्सेदारी आज करीब 5,000 करोड़ रुपए है। हमारे पास 1,56,000 किलोमीटर आप्टिल फाइबर है। हमें मौद्रिकरण मूल्य पर कोई अनुमान नहीं दिया है। प्रवर्तक शेयरधारकों वोडाफोन ग्रुप और आदित्य बिड़ला ग्रुप ने बोर्ड से कहा है कि वे राइट इश्यू के हिस्से के रूप में क्रमश: 11,000 करोड़ रुपये और 7,250 करोड़ रुपए का योगदान देने का इरादा रखते हैं।   
 

Related Stories:

RELATED वोडा आइडिया, एयरटेल, जियो ने मार्च में चुकाया स्पेक्ट्रम बकाया, आरकॉम का अब भी बाकी